आतंक के खिलाफ सेना को कब और कैसे कार्रवाई करनी है उन्हें पूरी छूट : रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण

हिंदी दैनिक आज का मतदाता नई दिल्ली। पाकिस्तान के एफ-16 विमान जिसे भारतीय वायुसेना ने मार गिराया उसे उड़ाने वाले पायलट की पहचान के सवाल पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमें उस पायलट के बारे में पता है कि वो कौन था। इस बारे में वो किसी और समय बताएंगी।


इस सवाल पर कि अगर सरकार को यह सूचना मिलती है कि पाकिस्तान में आतंकी फिर इकट्ठा हो रहे हैं तो क्या कार्रवाई होगी। इस सवाल के जवाब में निर्मला सीतारमण ने कहा कि आतंक को खत्म करने पर हमारी कार्रवाई सूचना के आधार पर है। हमारा निर्णय इस बात से तय नहीं होगा कि कितने ज्यादा मरेंगे या कम मरेंगे। हमें सूचना मिली तब प्रधानमंत्री ने सेना को कहा कि आप तय करिए कब करना है कैसे करना है।


राफेल पर PMO का सलाह देना सामानांतर बातचीत नहीं
राफेल डील को लेकर उठे सवालों के जवाब में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से सवाल पूछे जाने, सलाह देने को सामानांतर बातचीत कहना गलत है। औपचारिक इंडियन नेगोसिएशन टीम के नोट को ही कैबिनेट की मंजूरी मिलती है। सामानांतर बातचीत की कोई बात ही नहीं क्योंकि मंजूरी को आधिकारिक टीम के नोट को ही दी जाती है।


राफेल के सवाल पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमारे पास अच्छे प्रशिक्षित पायलट हैं। अगर आप एक्सपर्ट हैं तो घास भी आपका हथियार हो सकता है। हमारे पायलट ने पुराने एयरक्राफ्ट से ये काम कर दिखाया। हमने अपने लड़ाकू विमानों को हर मोर्चे पर तैयार रहने के लिए अपग्रेड किया है।


बालाकोट में जमा हो रहे थे आतंकवादी और अातंकी ट्रेनर
रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमें गोपनीय सूत्रों से जानकारी मिली थी कि बालाकोट में नए आतंकी और ट्रेनर जमा हो रहे हैं। यह सूचना पुख्ता थी जिसके खिलाफ हमारी वायुसेना ने एहतियातन कार्रवाई की।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र