इन राज्यों में सपा-बसपा को सीट दे सकती है कांग्रेस

 



सपा-बसपा को सीट दे सकती है कांग्रेस


सपा-बसपा और कांग्रेस के बीच बातचीत अभी जारी है. कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने भले ही अपने उम्मीदवारों की शुरुआती लिस्ट जारी कर दी हो, लेकिन पार्टी में अंदरखाने इस बात की चर्चा है कि अब भी कांग्रेस को लेकर गुंजाइश बन सकती है.


फॉर्मूले के तहत सपा और बसपा को कांग्रेस दूसरे राज्यों में जितनी सीटें देगी, इतनी सीटें उत्तर प्रदेश में यह दोनों दल कांग्रेस के लिए छोड़ सकते हैं. माना जा रहा है कि करीब दर्जनभर सीटों पर सहमति बनाने की कोशिश चल रही है. दोनों दलों के पास करीब दर्जनभर ऐसी सीटें हैं, जहां कांग्रेस मजबूत है और अगर त्रिकोणीय संघर्ष होता है तो सपा-बसपा के लिए भी इन सीटों पर जीतना मुश्किल हो सकता है. ऐसे में कांग्रेस की एक और कोशिश है कि इन दोनों दलों के साथ हर हाल में गठबंधन में जाया जाए.


इन राज्यों में सपा-बसपा को सीट दे सकती है कांग्रेस


कानपुर, लखनऊ, इलाहाबाद, बरेली, बाराबंकी, कुशीनगर, प्रतापगढ़, वाराणसी, धौरहरा जैसी सीटें कांग्रेस के लिए मुफीद हैं. ऐसी ही कुछ और सीटें निकाल कर अगर गठबंधन की बात बनती है तो बनाई जा सकती है. माना जा रहा है कि समाजवादी पार्टी को कांग्रेस महाराष्ट्र में अपने गठबंधन में सीटें देने को तैयार है, जबकि बीएसपी के लिए छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में सीटें देने की कोशिश चल रही है.


कांग्रेस से गठबंधन के लिए मायावती भी हो सकती हैं तैयार


किस्तों में सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान होना, प्रियंका गांधी का बार-बार उत्तर प्रदेश का दौरा टलना, कांग्रेस का सिर्फ अपनी मजबूत सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान करना, इस बात की ओर इशारा करता है कि अंदरखाने अभी काफी कुछ चल रहा है. माना जा रहा है कि बीएसपी सुप्रीमो मायावती कांग्रेस के साथ गठबंधन को बिल्कुल तैयार नहीं हैं, लेकिन बसपा सूत्रों की मानें तो हालात बदल रहे हैं और अगर राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ सरीखे राज्य में बीएसपी को कांग्रेस सीटें देती है तो शायद मायावती गठबंधन के लिए तैयार हो जाएं.


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र