जनता ने भी अपना मन बना लिया कि वह दुबारा भाजपा को सत्ता में नहीं लाएगी
  

   जनता ने भी अपना मन बना लिया कि वह दुबारा भाजपा को सत्ता में नहीं लाएगी- संजीव सक्सेना

  हिंदी दैनिक आज का मतदाता आज गाजियाबाद में भारतीय हिंद फौज के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजीव सक्सेना ने कहा 2019 का चुनाव बहुत महत्वपूर्ण है। लोकतंत्र खतरे में है यह लोकतंत्र को बचाने का चुनाव है। देश में लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। देश को हजारों साल पीछे ढकेल कर मनुवाद को बढ़ावा दिया जा रहा है। जनता को गुमराह कर  मुख्य मुद्दों से ध्यान हटाया जा रहा है।

उन्होंने सपा ,बसपा,राष्ट्रीय लोकदल के गठबंधन पर बोलते हुए कहा कि ये दल अपने वजूद को बचाने और अपने हित को साधने के लिए एक साथ एक मंच पर आये है। एेसे में इस गठबंधन से सावधान रहने की जरुरत है। मौजूदा हालात पर उन्होंने देश व प्रदेशवासियों को चौकन्ना रहने की बात कही। 

घटनाएं अभी भी रूकी नहीं हैं। सीमाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी सरकार की है। नोटबंदी से न भ्रष्टाचार रूका और नहीं आतंकवाद समाप्त हुआ।  

इस समय देश के समक्ष गरीबी, बेकारी जैसे बड़े सवाल हैं। शिक्षा का अभाव है। अस्पतालों में चिकित्सा व्यवस्था चरमराई हुई है।  नौजवानों के साथ तो भाजपा सरकार का रवैया दुश्मनों जैसा है। हर साल 2 करोड़ नौकरियां देने का वादा करने वाली भाजपा नौजवानों का भविष्य अंधकारमय है। नोटबंदी जीएसटी से व्यापार चैपट है। किन्तु भाजपा, उसके फायदे गिनाकर लोगों को झूठे आंकड़ों से बहकाना चाहती है। उसके विकास में रोजगार नहीं आता है। भाजपा झूठ और फरेब की राजनीति करने में अव्वल है। भाजपा सरकारों ने न सिर्फ नौजवानों के सपनों को तोड़ा है बल्कि उनके भविष्य को भी अंधकार में धकेल दिया है।

अब जनता ने भी अपना मन बना लिया कि वह दुबारा भाजपा को सत्ता में नहीं लाएगी।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
एलआईसी विश्वास और पारिवारिक सुरक्षा ,उज्जवल भविष्य और सम्मान का प्रतीक है प्रशांत वशिष्ठ,
चित्र
शिक्षा और चिकित्सा हर किसी को निशुल्क मिले कुल भूषण त्यागी
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र