राजनीति के सबसे बड़े घराने ने जब बदले ठिकाने, पढ़िए मुलायम-शिवपाल और अखिलेश-डिंपल की चुनावी कहानी

राजनीति में दल व ठिकाना बदलना खूब देखने को मिलता है। जीत के लिए सियासी आंकड़ों से उम्मीदवारों के नक्षत्रों का फिट बैठना जरूरी है। इन्हीं सियासी आंकड़ों व चुनावी गठित के चलते राजनीति के सबसे बड़े घराने के महारथियों ने बदले अपने ठिकाने। इसकी शुरूआत मुलायम सिंह ने की। उन्होंने अपनी आजमायी सीट पर परिवार के लोगों को चुनाव लड़ाया और जिताकर दिल्ली की संसद तक पहुंचाया।

सपा संरक्षण मुलायम सिंह के सीट छोड़ने पर उपचुनाव में सैंफई परिवार के तीन सांसद बने। सबसे पहले उनके बेटे अखिलेश यादव उपचुनाव जीतकर संसद पहुंचे। फिर उनके छोटे भाई अभय राम के बेटे धर्मेंद्र यादव चुनाव जीते। इसके 2014 में मैनपुरी सीट से उनके नाती तेज प्रताप यादव चुनाव जीते। इस बार सभी सूरमा अपनी-अपनी सीटों से चुनाव मैदान में ताल ठोक रहे हैं।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
स्वास्थ्य के प्रति हमेशा सजग रहे डॉक्टर नीतिका शुक्ला
चित्र
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के साथ विकसित होने वाले औद्योगिक क्लस्टर के माध्यम से बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे
चित्र
पीएम मोदी का रोड शो, 400 पार के नारे से गूंजा गाजियाबाद
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र