उर्दू से इतनी ही नफरत है तो ‘मुमकिन है‘ नारे पर रोक लगाए भाजपा: अखिलेश यादव

 

                                                              सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव

                   सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रामपुर में उर्दू गेट ध्वस्त करने पर कहा कि अगर उर्दू भाषा से भाजपा सरकार को इतनी ही नफरत है तो दिल्ली में ‘मुमकिन है‘ नारे पर भी प्रतिबंध लगा देना चाहिए। वही लोग आजकल ...मुमकिन है नारे का प्रयोग कर रहे हैं। अखिलेश शनिवार को पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे।


 

अखिलेश ने कहा, वाराणसी से कानपुर और नोएडा तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसलिए दौड़ लगा रहे हैं ताकि चुनाव से पहले पुराने कामों को नया दिखाया जा सके। भाजपा ने लोकतंत्र में नई परंपरा शुरू की है, उद्घाटन का उद्घाटन और शिलान्यास का शिलान्यास। लेकिन प्रदेश का मतदाता जानता है कि भाजपा को रोकने की ताकत सिर्फ सपा-बसपा-रालोद गठबंधन में ही है।
उन्होंने उन्नाव व कानपुर के प्रमुख कार्यकर्ताओं और संभावित प्रत्याशियों से चुनावी रणनीति पर भी चर्चा की। कहा, भाजपा की केंद्र सरकार अपने पांच वर्ष के कार्यकाल में सपा सरकार द्वारा बनाए गए आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे जैसा एक भी एक्सप्रेस-वे नहीं बना सकी। उसकी कार्यक्षमता इतनी भी नहीं कि एक पुल भी बना सके। सपा सरकार में लखनऊ में मेट्रो परियोजना शुरू हुईं थीं। सपा सरकार बनने पर लखनऊ से उन्नाव तक मेट्रो रेल चलवाएंगे।
उन्होंने कहा, नोटबंदी के बाद जनता का धन बैंकों में जमा हुआ जिसे नीरव मोदी जैसे कारोबारी लूटकर विदेश भाग गए। किसान कर्ज से परेशान हैं। जनता को भाजपा की मार्केटिंग और ब्रांडिंग से सावधान रहना होगा। उसका स्वदेशी आंदोलन धोखा है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र