शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा क्या दे पाएंगी राजनाथ को टक्कर


लखनऊ। अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के खिलाफ यहां से चुनाव लड़ेंगी। विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक, पूनम सिन्हा समाजवादी पार्टी के टिकट पर बहुजन समाज पार्टी के समर्थन से इस सीट से चुनाव लड़ेंगी। कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि पार्टी ने लखनऊ से किसी भी उम्मीदवार को नहीं उतारने और सिन्हा को समर्थन देने का निर्णय लिया है। इससे राजनाथ सिंह और पूनम सिन्हा के बीच सीधे टक्कर होने का मार्ग प्रशस्त हो गया है।


सूत्रों ने कहा कि इस संबंध में बात चल रही थी और इसी वजह से दिल्ली में शत्रुघ्न सिन्हा के 28 मार्च को कांग्रेस में शामिल होने का कार्यक्रम टाल दिया गया। कांग्रेस के एक नेता ने कहा कि जितिन प्रसाद लखनऊ से चुनाव लड़ना चाहते थे और लेकिन उन्हें अपने संसदीय क्षेत्र धौरहरा के लिए राजी होना पड़ा। जिसके बाद सबकुछ स्पष्ट हो गया है और लखनऊ उन सात सीटों में शामिल होगा, जिसके बारे में कांग्रेस ने कहा था कि वह इन सीटों को सपा-बसपा गठबंधन के लिए छोड़ देगी।
शत्रुघ्न सिन्हा छह अप्रैल को दिल्ली में कांग्रेस में शामिल होंगे और बिहार में पटना साहिब लोकसभा सीट से पार्टी के उम्मीदवार होंगे। राजनाथ सिंह के खिलाफ संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार खड़ा करने का उद्देश्य केंद्रीय मंत्री को उनके संसदीय क्षेत्र तक सीमित रखने का है। सपा के सूत्रों ने कहा कि पार्टी ने पहले ही अपना होमवर्क पूरा कर लिया है।


सपा के एक नेता ने कहा कि लखनऊ में 3.5 लाख मुस्लिम वोटरों के अलावा, चार लाख कायस्थ मतदाता हैं और 1.3 लाख सिंधी मतदाता हैं। यह उनकी उम्मीदवारी को बड़ी ताकत प्रदान करेगा। पूनम सिन्हा सिंधी हैं और उनके पति शत्रुघ्न सिन्हा कायस्थ हैं। भाजपा के महासचिव विजय पाठक ने हालांकि मामले को ज्यादा महत्व नहीं देते हुए कहा, "लखनऊ हमेशा से भाजपा का गढ़ रहा है और हमेशा बना रहेगा। राजनाथ सिंह ने यहां कई विकास कार्य किए हैं और उनका लोगों के साथ अच्छा तालमेल है। बाहर से आई उम्मीदवार ज्यादा मतदाताओं को लुभा नहीं पाएंगी। राजनाथ सिंह ने 2014 में लखनऊ सीट से कुल 55.7 प्रतिशत मत हासिल किए थे।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र