अब संस्कृत भाषा में भी जारी होंगे उत्तर प्रदेश सरकार के प्रेस नोट

योगी सरकार ने भाजपा के सांस्कृतिक एजेंडे को धार देना शुरू कर दिया है। सूचना विभाग ने अब संस्कृत भाषा में प्रेस नोट जारी करने की पहल की है। सूचना विभाग में अभी तक हिंदी, अंग्रेजी और उर्दू में ही प्रेस नोट जारी किए जाते थे। सूचना विभाग ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नीति आयोग के साथ हुई बैठक का प्रेस नोट संस्कृत भाषा में जारी किया।विभाग के निदेशक शिशिर ने बताया कि इससे संस्कृत भाषा को बढ़ावा मिलेगा और संस्कृत के विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन होगा।

विभाग के निदेशक ने कहा कि अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के भाषण व सरकारी फैसलों की सूचना अब संस्कृत भाषा में भी मिलेगी। इसके पहले नीति आयोग में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दिए गए भाषण को संस्कृत में जारी किया गया था।

भाषणों व सूचनाओं की जानकारी को संस्कृत में अनुवाद करने के लिए लखनऊ स्थित राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान की मदद ली जाएगी। मुख्यमंत्री योगी ने मामले पर सोमवार को एक बयान में कहा था कि संस्कृत भाषा भारत के डीएनए में है। इसका उपयोग धार्मिक कार्यों में किया जाता है। जिसे बढ़ाने की आवश्यकता है।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र
राम नाम सत्य है - प्रेम श्रीवास्तव
चित्र