अयोध्या : उद्धव आज शिवसेना सांसदों के साथ रामलला के दर्शन करेंगे, 7 महीने में दूसरा दौरा

अयोध्या. शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे 18 पार्टी सांसदों के साथ रविवार को रामलला के दर्शन करेंगे। वह सात महीने बाद अयोध्या आएंगे। इस बार उनका दौरा केवल ढाई घंटे का होगा। दर्शन के बाद ठाकरे होटल पंचशील में प्रेसवार्ता भी करेंगे।


 


शिवसेना अध्यक्ष 24 नवंबर को पत्नी रश्मि और बेटे आदित्य के साथ दो दिवसीय दौरे पर अयोध्या पहुंचे थे। यहां उन्होंने सरयू की आरती और तिरपाल में बैठे रामलला के दर्शन किए थे। उद्धव ने कहा था कि चुनाव में सब राम-राम करते हैं, फिर आराम करते हैं। उन्होंने कहा था कि 2019 में सरकार बने या नहीं बने, लेकिन मंदिर जरूर बनना चाहिए। केंद्र सरकार अध्यादेश लाए, हम मदद करेंगे।


 


राम मंदिर निर्माण की प्रतिबद्धता को मिलेगी मजबूती  : शिवसेना ने एक बयान में कहा है कि लोकसभा चुनाव के बाद इस यात्रा के जरिए अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्धता को और मजबूती मिलेगी। ठाकरे की अयोध्या यात्रा से पहले पार्टी नेता संजय राउत उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर चुके हैं। योगी ने ठाकरे और शिवसेना के सांसदों को राज्य अतिथि का दर्जा दिया है।


 


उद्धव ठाकरे के दौरे को लेकर सुरक्षा कड़ी : शिवसेना नेताओं के अयोध्या में आगमन से पहले यहां सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। एसएसपी ने बताया कि यहां आने-जाने वाले लोगों की सघन तलाशी ली जा रही है। पुलिस की होटलों और धर्मशालाओं पर विशेष नजर है।


 


राम का धन्यवाद देने आ रहे हैं ठाकरे : उत्तरप्रदेश शिवसेना के अध्यक्ष अनिल सिंह ने बताया कि लोकसभा चुनाव से पहले उद्धव ठाकरे कई धार्मिक स्थानों पर दर्शन के लिए गए थे। अब चुनाव में पार्टी के अच्छे प्रदर्शन के बाद वह अयोध्या जाकर पूजा-अर्चना करेंगे। उनकी अयोध्या यात्रा लोकसभा चुनाव में पार्टी के शानदार प्रदर्शन के बाद भगवान राम का धन्यवाद करने के लिए है। ठाकरे ने चुनाव में जीत मिलने के बाद अयोध्या दोबारा आने की बात कही थी।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र