16 साल बाद विश्व कप में आमने-सामने भारत और न्यूजीलैंड, फाइनल के लिए होगा कड़ा मुकाबला

खास बातें


2003 : में हुई थी दोनों टीमों के बीच विश्व कप की पिछली भिड़ंत जिसमें भारत जीतने में सफल रहा था 
 

 

विराट कोहली की टीम के लिए अभी तक विश्व कप का सफर स्वप्निल रहा है। विश्व कप की चमचमाती ट्रॉफी बस 'दो कदम' दूर रह गई है। पहला कदम मंगलवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाला सेमीफाइनल मुकाबला है।विश्व कप की 'रन मशीन' रोहित शर्मा की अगुआई में भारतीय शीर्षक्रम शानदार प्रदर्शन कर रहा है। दूसरी ओर ट्रेंट बोल्ट के नेतृत्व में न्यूजीलैंड के तेज आक्रमण की धार भी कम नहीं है। इस टूर्नामेंट में 'प्लान बी' के अभाव में भी विराट कोहली की टीम अपनी कमियों को ढांकने में कामयाब रही है लेकिन अब आखिरी दो तिलिस्म पर कोई भी कोताही बरतना भारी पड़ सकता है। भारत के लिए रोहित (647), राहुल (360) और विराट कोहली (442) मिलकर 1347 रन बना चुके हैं।

वहीं न्यूजीलैंड के लिए फर्ग्युसन (17 विकेट), बोल्ट (15) और मैट हेनरी (10) मिलकर 42 विकेट ले चुके हैं। जिम्मी नीशाम ने 11 और कोलिन डे ग्रैंडहोम ने पांच विकेट लिए हैं। इस विश्व कप में दोनों के बीच लीग मैच बारिश के कारण नहीं हो सका था लेकिन ओवल में हुए ट्रेंट बोल्ट की घातक गेंदबाजी के आगे भारत को हार का सामना करना पड़ा था। दोनों टीमों के बीच विश्व कप में पिछली टक्कर 2003 में हुई थी जिसमें भारत जीतने में सफल रहा था। 

दूसरी ओर न्यूजीलैंड कप्तान केन विलियमसन की स्पिनरों के खिलाफ तकनीक या रॉस टेलर का जसप्रीत बुमराह को खेलने का तरीका भी देखना दिलचस्प रहेगा। यह भी देखना होगा कि महेंद्र सिंह धोनी मैच में मिशेल सेंटनर की बाएं हाथ की धीमी गेंदबाजी का कैसे सामना करते हैं क्योंकि दोनों का सामना चेन्नई सुपर किंग्स में कई बार हो चुका है। न्यूजीलैंड की टीम आखिरी तीन लीग मैच हार गई लेकिन शुरुआती मैचों के अच्छे प्रदर्शन से मिले अंकों के दम पर पाकिस्तान को पछाड़कर अंतिम चार में पहुंची। 

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र