डेढ़ साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंचा शेयर बाजार, निवेशकों के डूबे करोड़ों रुपये
शेयर बाजार में शुक्रवार के दिन पिछले 1.5 साल की सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली। सेंसेक्स एक दिन में ही 547 अंकों से ज्यादा नीचे चला गया और यह 38300 के स्तर पर कारोबार कर रहा था। मिड-सेशन के बाद बिकवाली तेज हो गई। निफ्टी में 173 प्वाइंट की गिरावट दर्ज की गई। इसने 11,424.05 का निचला स्तर छुआ। इस गिरावट से निवेशकों को करोड़ों रुपये डूब गए।

सुबह के वक्त यह था हाल


सेंसेक्स 82 अंकों की बढ़ोतरी के साथ 38978.68 के स्तर पर कारोबार करते हुए देखा गया। वहीं निफ्टी 11608 के स्तर पर कारोबार कर रहा था। कारोबार की शुरुआत में एसीसी पांच फीसदी की बढ़त के साथ कारोबार कर रहा था। वहीं रिलायंस इंडस्ट्रीज सपाट था। सबसे ज्यादा गिरावट ऑटो शेयरों में आई है। टॉप लूजर्स की बात करें तो इनमें मारुति, महिंद्रा, यस बैंक शामिल हैं। सबसे खराब परफॉर्मेंस करने वाले शेयरों में बजाज फाइनेंस और बजाज फिनसर्व है।

यह रही गिरावट की मुख्य वजह


कारोबारियों के मुताबिक कंपनियों के तिमाही नतीजे कमजोर रहने और अर्थव्यवस्था में धीमेपन की रिपोर्ट्स की वजह से विदेशी निवेशक बिकवाली कर रहे हैं।

एफपीआई पर टैक्स


लोकसभा ने बजट के दौरान पेश किए गए वित्त विधेयक को अपनी मंजूरी दे दी है। विधेयक के प्रावधानों के मुताबिक अब ट्रस्ट के तौर पर रजिस्टर्ड फॉरेन पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीआई) को भी टैक्स देना होगा। कंपनी के तौर पर रजिस्टर्ड एफपीआई पर टैक्स रेट बढ़ने का असर नहीं पड़ेगा और एफपीआई ट्रस्ट के बजाय कंपनी के तौर पर फिर से अपना रजिस्ट्रेशन कराने पर विचार कर सकते हैं। सरकार का यह फैसला बाजार को रास नहीं आया। 

वित्तीय स्टॉक्स में बिकवाली


बजाज फाइनेंस और बजाज फिन्सर्व के शेयरों में सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली। बजाज फाइनेंस का शेयर पांच फीसदी लुढ़क गया। इंडसइंड बैंक तीन फीसदी, एसबीआई 1.7 फीसदी, एचडीएफसी 1.6 फीसदी और कोटक महिंद्रा बैंक एक फीसदी गिर गए। इन पांच कंपनियों के शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट देखने को मिली।  


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र