राफेल मुद्दे पर अमित शाह बोले- कांग्रेस और उनके नेता देश से माफी मांगे


नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने बुधवार को राफेल डील (Rafale Deal) पर फैसला देते हुए विपक्षी नेताओं की ओर से दायर पुनर्विचार याचिका (REview Petition) को खारिज करते हुए मोदी सरकार (Modi Sarkar) को क्‍लीन चिट दे दी. गृहमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राफेल सौदे को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला किया है.


अमित शाह ने कहा कि राफेल पर पुनर्विचार याचिका का खारिज होना उन नेताओं और पार्टियों के लिए एक करारा जवाब है जो दुर्भावनापूर्ण और आधारहीन अभियानों पर भरोसा करते हैं. सुप्रीम कार्ट का यह निर्णय अभी तक फिर से मोदी सरकार की साख को एक सरकार के रूप में पुन: पुष्टि करता है जो पारदर्शी और भ्रष्टाचार मुक्त है.


उन्होंने आगे कहा कि अब यह साबित हो गया है कि राफेल पर संसद का व्यवधान एक दिखावा था. लोगों के कल्याण के लिए समय का बेहतर उपयोग किया जा सकता था. सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस और उसके नेता को आज जो फटकार लगाई है. उनके लिए राजनीति राष्ट्रीय हित से ऊपर है, उन्हें राष्ट्र से माफी मांगनी चाहिए.


बता दें कि चीफ जस्टिस रंजन गोगौई, जस्टिस एसके कौल, जस्टिस केएम जोसेफ की बेंच ने राफेल डील पर फैसला सुनाया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा, अब राफेल डील पर सौदे की जांच नहीं होगी. इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी. इसके साथ ही मोदी सरकार को राफेल डील पर क्लीन चिट मिल गई. साथ ही राफेल डील को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के बयान पर उनकी माफी भी मंजूर कर ली. अब इस मामले में राहुल गांधी के खिलाफ अवमानना का केस नहीं रहेगा.


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र