अर्थव्यवस्था तो सुधरी नहीं, मंहगाई चरम पर पहुंच गई है-अखिलेश यादव

 समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री  अखिलेश यादव ने कहा है कि वर्ष 2020 के प्रारम्भ के साथ जनता को उम्मीद थी कि भाजपा सरकार जनहित की दिशा में कोई कदम उठाएगी लेकिन भाजपा की सरकार ने तो नए वर्ष के साथ ही नई समस्याएं पैदा करना शुरू कर दिया है। अर्थव्यवस्था तो सुधरी नहीं, मंहगाई चरम पर पहुंच गई है। भाजपा की सरकारों में संवैधानिक संस्थाओं पर खतरा मंडरा रहा है। फिजूल के मुद्दों में उलझाए रखकर भाजपा सरकार समय की बर्बादी कर रही है।
    भाजपा सरकार के कार्यकाल में नौजवानों की समस्याओं का कोई समाधान नहीं हुआ। बेरोजगारों की फौज बढ़ती जा रही है। किसानों की हालत दयनीय है। कर्ज में डूबे किसानों की आत्महत्याएं थम नहीं रही है। छात्रों को शिक्षा से वंचित किया जा रहा है। फीस में अनापशनाप वृद्धि की जा रही है। सरकारी शह पर विश्वविद्यालयों की स्वायत्तता पर आघात हो रहा है और उन्हें बदनाम किया जा रहा है।



    भाजपा सरकार द्वारा नोटबंदी और जीएसटी लागू करने के बाद देश में व्यापार धंधा चैपट हो गया है। केन्द्र सरकार की मेक इन इण्डिया, स्टार्ट अप इण्डिया, मुद्रालोन आदि योजनाओं का अब नाम भी नहीं सुनाई पड़ता है। महिलाओं और बच्चियों की सुरक्षा खतरे में है। स्कूलों के बच्चों को बचा नहीं पा रहे है। भाजपा सरकार उन्हें स्वेटर देने में असमर्थ है। भाजपा सरकार आज तक विकास की कोई मंजिल हासिल नहीं कर सकी है। सिर्फ बड़ी-बड़ी बातें ही होती रही है।



    भाजपा सरकार की विद्वेषपूर्ण नीतियों के चलते प्रदेश में कानून व्यवस्था की हालत दिन पर दिन बिगड़ती जा रही है। विद्युत उत्पादन एक यूनिट भी नहीं। सरकारी हिंसा में निर्दोषों की मौतें हो रही हैं। गरीबों की कहीं कोई सुनवाई नहीं। उस पर सीएए, एनपीआर और एनआरसी के बहाने समाज को बांटने तथा आतंकित करने की साजिशें हो रही है। नागरिकों की आजादी को नियंत्रित कर अंकुश लगाना मौलिक अधिकारों का हनन है। भाजपा लोकतांत्रिक व्यवस्था में विधि सम्मत कामों में भी रोड़ा अटकाती है। देश में इससे भ्रम, भय और भ्रष्टाचार के प्रसार की आशंका को झुठलाया नहीं जा सकता है।



     समाजवादी पार्टी अपने जन्म से ही अन्याय और अनीति के खिलाफ संघर्षरत रही है। जन-जन की आकांक्षा पूर्ति के लिए वह प्रतिबद्ध है। समाजवादी पार्टी राज्य में नया सवेरा लाने के लिए प्रयासशील है। अपने कार्यकाल में समाजवादी सरकार ने जनहित के तमाम शानदार योजनाएं लागू की थी। दिल बहलाने के लिए सपा सरकार के कामों को भाजपा कब तक अपना काम बताते रहेंगे? भाजपा लाख कोशिश कर ले लेकिन समाजवादी सरकार के विकासकार्यों को ढंक नहीं सकती है। वह धूल उड़ाकर धुंध पैदा करने की साजिश तो कर सकती है लेकिन सच्चाई से राज्य की जनता अवगत है। सन् 2022 में सत्ता में आने पर समाजवादी पार्टी फिर प्रदेश में नई उम्मीदों के साथ राज्य को विकास के रास्ते ले जाने के लिए वचनबद्ध हैै।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
स्वास्थ्य के प्रति हमेशा सजग रहे डॉक्टर नीतिका शुक्ला
चित्र
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के साथ विकसित होने वाले औद्योगिक क्लस्टर के माध्यम से बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे
चित्र
पीएम मोदी का रोड शो, 400 पार के नारे से गूंजा गाजियाबाद
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र