गुजरात इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन द्वारा संचालित 1,500 से अधिक औद्योगिक इकाइयां बंद

गुजरात विधानसभा के पहले सत्र के दौरान विभिन्न विधायकों के सवालों के लिखित जवाब में राज्य सरकार ने कहा कि मांग और वित्तीय कारणों की वजह से 21 जिलों में विभिन्न औद्योगिक इकाइयां बंद हो गई हैं. कोरोना महामारी के दौरान इकाइयां बुरी तरह से प्रभावित हुई हैं.

(फोटोः पीटीआई)

(फोटोः पीटीआई)

गांधीनगरः गुजरात इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (डीआईडीसी) द्वारा संचालित विभिन्न औद्योगिक संपदाओं की कुल 1,511 औद्योगिक इकाइयों को बंद कर दिया गया है.

राज्य सरकार ने बीते तीन मार्च को विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान यह जानकारी दी. रिपोर्ट के मुताबिक, गुजरात विधानसभा के पहले सत्र के दौरान विभिन्न विधायकों के सवालों के लिखित जवाब में सरकार ने कहा कि मांग और वित्तीय कारणों की वजह से 21 जिलों में विभिन्न औद्योगिक इकाइयां बंद हो गई हैं.

दिसंबर 2020 से सर्वाधिक संख्या में औद्योगिक इकाइयां जहां बंद हुई हैं, उनमें अंकलेश्वर (भरुच 89 इकाइयां), पनोली (भरुच 75 इकाइयां), सचिन (सूरत 77 इकाइयां), सचिन अपैरल पार्क (सूरत 47 इकाइयां), चित्रा (भावनगर 69 इकाइयां), वटवा (अहमदाबाद (64 इकाइयां), वाधवन (सुरेंद्रनगर 6 इकाइयां), सिद्धपुर (पाटन 50 इकाइयां) और गांधीनगर इलेक्ट्रॉनिक्स (51 इकाइयां) शामिल हैं.

गुजरात में औद्योगिक इकाइयां में खास तौर पर छोटे एवं मझोले उद्यमों की भरमार हैं, जो पिछले साल कोरोना महामारी के दौरान बुरी तरह से प्रभावित हुआ है.

यह सुनिश्चित करने के लिए कि बंद की गईं इकाइयों को दोबारा शुरू किया जा सके, राज्य सरकार ने गुजरात आत्मनिर्भर पैकेज के तहत पंद्रह फीसदी की जगह दस फीसदी ट्रांसफर शुल्क ले रही है.

वहीं, सरकार ने बंद की गईं इकाइयों पर लगाई गई जुर्माना राशि भी घटा दी है.

बता दें कि बुधवार को पेश किए गए बजट में राज्य के वित्त मंत्री नितिन पटेल ने बनासकांठा के जलोत्रा, जामनगर के शेखपट, गांधीनगर के कदजोदरा, अमरेली के पीपावाव और राजकोट के नागलपर में जीआईडीसी के जरिये नए औद्योगिक एस्टेट खोलने की घोषणा की थी.

इसी तरह की इकाइयां पाटन, आणंद, महिसागर और मोरबी जिलों में भी प्रस्तावित हैं.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र
राम नाम सत्य है - प्रेम श्रीवास्तव
चित्र