सरकारी कार्यप्रणाली से त्रस्त उद्यमी 31 मार्च तक कंपनियों पर लगा सकते है ताला -एमएसएमई इंडस्ट्रियल एसोसिएशन ने बैठक में लिया फैसला -मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 

हिंदी दैनिक आज का मतदाता नोएडा। सरकारी कार्य प्रणाली से त्रस्त उद्यमियों ने एमएसएमई इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के बैनर तले एक बैठक की। बैठक में निर्णय लिया गया कि यदि सरकारी विभागों द्वारा उद्यमियों को बेवजह परेशान करना बंद नहीं किया तो वह 31 मार्च तक स्वता ही उद्योगों को बंद कर लॉकडाउन कर देंगे। उद्यमियों ने हस्ताक्षर लिखित एक पत्र मुख्यमंत्री के नाम भी भेजा। 

संस्था के अध्यक्ष सुरेंद्र नाहटा ने बताया कि लगातार सरकारी विभागों द्वारा अलग -अलग तरीके से प्रताड़ित किया जा रहा है। कई हजार उद्यमियों को विद्युत निगम ने नोटिस भेज दिए। बिल जमा करने की अंतिम तारीख 31 मार्च है। लेकिन कनेक्शन काटने की धमकी दी जा रही है। जल/सीवर के बिल अर्थदंड व ब्याज के साथ भेज दिए गए है। जबकि 43 सालों से औद्योगिक सेक्टर में पीने लायक पानी की सप्लाई तक नहीं हो सकी है। जीएसटी विभाग में ए-वन दाखिल नहीं हो रहा है। इससे सेल-परचेज प्रभावित हो रहा है। बैंकों ने उद्यमियों को कर्जदार बना दिया है। किस्ते जमा करने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। एनबीएफसी द्वारा मनमाना ब्याज लेकर वसूली की जा रही है। उन्होंने बताया कि दिन प्रतिदिन कच्चा मॉल महंगा होता जा रहा है।आर्थिक बोझ और बार-बार प्रताड़ित होने से बेहतर है कि उद्योगों को ताला लगाकर लॉकडाउन कर दिया जाए। यही नहीं विभागों में फैले भ्रष्टचार को लेकर भी बैठक में चर्चा की गई। इस मौके पर केबी मेहंदीरत्ता, अभिषेक जैन, शिव कुमार राणा, पीएस सोलंकी, अजय गुप्ता, सुशील कुमार आदि सैकड़ों उद्यमी इक्कठा हुए !

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र
राम नाम सत्य है - प्रेम श्रीवास्तव
चित्र