लोकसभा और राज्यसभा टीवी का विलय हुआ, संसद टीवी के नाम से जाना जाएगा

 

ऐसा माना जा रहा है कि संसद टीवी में दो चैनल होंगे, जिनमें से प्रत्येक पर लोकसभा और दूसरे पर राज्यसभा सत्र का लाइव प्रसारण किया जाएगा. सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी रवि कपूर को तत्काल प्रभाव से चैनल का मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त किया गया है.

(फोटो साभार: विकिपीडिया)

(फोटो साभार: विकिपीडिया)

नई दिल्ली: लोकसभा और राज्यसभा टीवी को मिलाकर एक चैनल बना दिया गया है जिसे अब से संसद टीवी के रूप में जाना जाएगा.

 सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी रवि कपूर को तत्काल प्रभाव से एक साल की अवधि या अगले आदेश, जो भी पहले पूरा हो, तक चैनल का मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) नियुक्त किया गया है.

ऐसा माना जा रहा है कि संसद टीवी में दो चैनल होंगे, जिनमें से प्रत्येक पर लोकसभा और राज्यसभा सत्र का लाइव प्रसारण किया जाएगा.

राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू और लोकसभा के स्पीकर ने संभवतया यह फैसला प्रशासनिक दृष्टिकोष से लिया है.

इससे पहले जून 2020 में खबर आई थी कि दोनों चैनलों के एकीकरण को देखने के लिए गठित एक समिति ने एक अधिक मजबूत संपादकीय नीति का प्रस्ताव किया था, ताकि दर्शकों को संसदीय संस्थानों और लोकतंत्र के कामकाज के बारे में विस्तार से पता चल सके.

सूत्रों ने कहा था कि जब संसद का सत्र नहीं चल रहा होगा, तब दोनों चैनलों पर काफी हद तक सामान्य सामग्री दिखाई जाएगी.

राज्यसभा टीवी एक टीवी चैनल है, जिसका स्वामित्व और संचालन राज्यसभा द्वारा किया जाता है. राज्यसभा की कवरेज का सीधा प्रसारण करने के अलावा यह चैनल संसदीय मामलों का विश्लेषण भी पेश करता है. इसकी शुरुआत 2011 में हुई थी.

लोकसभा टीवी भारत सरकार का टीवी चैनल है, जो केंद्र सरकार की कार्रवाइयों का प्रसारण करता है. यह चैनल लोकसभा की कार्रवाइयों का लाइव और रिकॉर्ड किए गए कार्यक्रमों की कवरेज करता है. 1989 में इसकी शुरुआत हो चुकी थी, लेकिन इसे 2004 में लोकसभा नाम दिया गया.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र