करोना जैविक आपदा ने जनमानस की सोच बदल दी- समरजीत सिंह

 


समरजीत सिंह, प्रखंड अध्यक्ष विश्व हिंदू परिषद गोविंदपुरम गाजियाबाद 

गाजियाबाद हिंदी दैनिक आज का मतदाता समरजीत सिंह प्रखंड अध्यक्ष विश्व हिंदू परिषद गोविंदपुरम गाजियाबाद में एक वार्ता के अंतर्गत बताया कि आज करोना दैवीय आपदा ने देश की जनमानस को अपने काबिलियत पर एक बड़ा प्रश्नचिन्ह लाकर खड़ा कर दिया है, इस आपदा ने जनमानस की सोच बदल दी है, समरजीत सिंह ने कहा कि  आज मौतों का आंकड़ा चरम पर है, जिसका हमें बेहद दुख है, क्योंकि हम मेडिकल प्रोफेशन से हैं इसलिए मैं समझ सकता हूं कि परिवार का साथ जब कोई छोड़ता है तो उस परिवार पर क्या गुजरती होगी । आज वर्तमान संक्रमण और मौत के लिए जिम्मेदार हर तबका है कोई ज्यादा तो कोई कम ,लेकिन प्रश्न यह उठता है कि ऐसी विषम परिस्थितियां आई क्यों,जहां तक कि मेरा विचार यह है कि मानव अपने को मानव से ऊपर समझ बैठा , मानव कुदरत के कानून को तोड़ने में गर्व महसूस करने लगा, आज भौगोलिक संरचना का अनुपात कई विकासशील देशों में डगमगा गया है ,हमारा भारत देश भी अनुपातिक ,पेड़ ,पहाड़ों एवं अन्य स्रोत का सामंजस नहीं बिठा सका,जिसका खामियाजा हम मानव को अपने जीवन की बलि देकर चुकानी पड़ रही है । आज इस दैविक आपदा, ने संसाधनों के उपयोग को प्राथमिकता दी है, लेकिन यदि मानव  संसाधनों का दोहन करेगा  उसका दुरुपयोग करेगा तो उसका दुष्परिणाम सभी के सामने हैं जिसे प्रकृति ने बखूबी सभी को अपनी भाषा में समझा दिया है । समरजीत सिंह ने कहा कि हमारे ऋषि मुनि पहले  विपदाओ को भाप लेते थे उनकी चिंतन क्षमता सभी की रक्षा करने वाली होती थी ,लेकिन आज वर्तमान एवं पूर्व सरकारी रणनीति पर प्रश्नचिन्ह आम जनमानस यदि खड़ा कर रहा है तो  सरकारी तंत्र को अपनी रणनीति एवं नीति की समीक्षा अवश्य करनी चाहिए  जो कि देश हित में होगा

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
एलआईसी विश्वास और पारिवारिक सुरक्षा ,उज्जवल भविष्य और सम्मान का प्रतीक है प्रशांत वशिष्ठ,
चित्र
शिक्षा और चिकित्सा हर किसी को निशुल्क मिले कुल भूषण त्यागी
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र