वाह रे करोना

बीआर बत्रा

हिंदी दैनिक  आज का मतदाता गाजियाबाद, तेरे आने की वजह से, हाथ व माथे की रेखाएं भी बदल सी गई है, 100 वर्षों की भविष्यवाणी भी शून्य में बदल गई , कल का कोई भरोसा नहीं, जीने मरने की सात जन्मों की, जो कसमें खाई थी, वह  ना जाने कहां खो सी गई है , वह भूख, प्यास ,खालीपन बीमारी ,सूनापन पैसे का अभाव, सबसे ज्यादा खाए जा रहा है, शहर में लॉकडाउन सभी तरफ कालाबाजारी और लूटपाट, शब्दों और ख्वाबों को विराम दे चुका है, और कह रहा है कि मैं जिंदा नहीं हूं जिंदा लाश हूं, और अपने हाथों की रेखाओं को निहार रहा हूं ।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
संसद का शीतकालीन सत्र नहीं होगा, सरकार ने जनवरी में बजट सत्र बुलाने का सुझाव दिया
चित्र
मोदी खुद शहंशाह, मेरे भाई को शहजादा बोलते हैं: गुजरात में प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री पर किया पलटवार
चित्र