गंगा में लाशें बह रही हैं PM मोदी, गुलाबी चश्मा उतारो जिससे सेंट्रल विस्टा के सिवा कुछ दिख ही नहीं रहा है: राहुल गांधी
हिंदी दैनिक आज का मतदाता भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान अस्पतालों में हर दिन मौत का तांडव देखने को मिल रहा है। कोरोना महामारी के इस दौर में किसी का भी सुरक्षित बच पाना मुश्किल होता जा रहा है।

केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार इस त्रासदी में भी सिर्फ अपने चुनावी फायदे को देख रही है। जिसके चलते विपक्षी पार्टियों द्वारा उन पर खूब निशाने साधे जा रहे हैं।

खास तौर पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी बीते कुछ दिनों से कोरोना महामारी में मोदी सरकार की नकामयाबी को जगजाहिर करने के लिए ट्विटर पर काफी सक्रिय रह रहे हैं।

इस कड़ी में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज फिर ट्वीट कर केंद्र सरकार पर हमला बोला है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा है कि “नदियों में बहते अनगिनत शव, अस्पतालों में लाइनें मीलों तक, जीवन सुरक्षा का छीना हक़! PM, वो गुलाबी चश्में उतारो जिससे सेंट्रल विस्टा के सिवा कुछ दिखता ही नहीं.”

दरअसल मोदी सरकार द्वारा इस महामारी के दौरान भी नए संसद भवन पर पैसे खर्च कर रही है। जबकि देश में आई इस आपदा में मेडिकल संसाधनों की किल्ल्त बनी हुई है।

इस मुश्किल घड़ी में सरकार को नए स्वास्थ्य संसाधनों की आपूर्ति को तवज्जो देनी चाहिए।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश, बिहार और हरियाणा से कोरोना संक्रमण से मरने वाले मरीजों के शवों को नदियों में बहाए जाने की घटना सामने आई है।

दरअसल कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में हजारों लोगों को इलाज नहीं मिल पा रहा है। जिसके चलते मौतों का आंकड़ा काफी बढ़ चुका है।

ये कहना गलत नहीं होगा कि हर दिन कोरोना के नए मामलों और मौतों का रिकॉर्ड टूट रहा है। आलम यह है कि कोरोना से मरने वाले मरीजों को अंतिम संस्कार के लिए श्मशान में भी जगह नहीं मिल रही है। इसलिए उनके परिजन शवों को नदी में ही बहा रहे हैं।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
एलआईसी विश्वास और पारिवारिक सुरक्षा ,उज्जवल भविष्य और सम्मान का प्रतीक है प्रशांत वशिष्ठ,
चित्र
शिक्षा और चिकित्सा हर किसी को निशुल्क मिले कुल भूषण त्यागी
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र