उत्तर प्रदेश में भाजपा सांप-छछूंदर की गति को क्यों प्राप्त हो गई है

उत्तर प्रदेश की राजनीति को लेकर भाजपा के बार-बार ‘सब कुछ ठीक है’ कहने के बावजूद कुछ भी ठीक न होने के संदेह थमते नज़र नहीं आ रहे हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ योगी आदित्यनाथ. (फोटो साभार: पीएमओ)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ योगी आदित्यनाथ. (फोटो साभार: पीएमओ)

देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में लगता है कि भारतीय जनता पार्टी ने अपनी कवायदों से अब तक लस्त-पस्त दिख रहे अपने विपक्ष को खुद अपनी कमजोरियों का पता दे डाला है.

अन्यथा अभी कुछ महीनों पहले तक कोई कहता कि यह प्रदेश अपने विधानसभा चुनाव वाले वर्ष में देश ही नहीं, दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा और उसके पितृसंगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के गले की फांस बन जाएगा- प्रदेश में उनकी भारी बहुमत वाली सरकार होने के बावजूद- तो कोई मानने को तैयार न होता.

भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ में जिस खुन्नस की चर्चा इन दिनों आम है, उसके बीज गत जनवरी में ही पड़ गए थे, जब मोदी ने अपने सबसे विश्वस्त नौकरशाहों में से एक अरविंद कुमार शर्मा को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति दिलवाकर लखनऊ भेजा और विधान परिषद सदस्य चुनवाया, लेकिन योगी ने उन्हें मंत्री पद दिलवाने की उनकी कोशिशों को न सिर्फ धता बता दी बल्कि सद्भाव के वातावरण में उनसे मिलना भी गवारा नहीं किया.

फिर भी भाजपा की संभावनाओं को लेकर जैसे संदेह अब उसके शुभचिंतकों तक की ओर से जताए जा रहे हैं, तब उनके द्वारा भी नहीं जताए जाते थे, जो उसे फूटी आंखों भी देखना पसंद नहीं करते.

इसलिए कोरोना की दूसरी लहर से निपटने में मोदी व योगी दोनों सरकारों के सर्वथा विफल रहने के बाद की पृष्ठभूमि में अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियों के नाम पर भाजपा व संघ में चल रही कवायदें दाग देहलवी की एक बेहद लोकप्रिय गजल के दो शे’र याद दिला रही हैं: उज्र आने में भी है और बुलाते भी नहीं/ बाइस-ए-तर्क-ए-मुलाकात बताते भी नहीं/ख़ूब परदा है के चिलमन से लगे बैठे हैं/साफ़ छुपते भी नहीं सामने आते भी नहीं.

उनके इस तरह न साफ छुपने, न ही सामने आने का ही परिणाम है कि जरा-जरा सी बात पर तरह-तरह की अटकलों का बाजार गरम हुआ जा रहा है और उन्हें रोकने की सारी कोशिशें नाकाम हुई जा रही है.

ये अटकलें कभी फैलकर नेतृत्व परिवर्तन यानी योगी को मुख्यमंत्री व स्वतंत्र देव सिंह को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पदों से हटाने तक पहुंच जाती हैं और कभी योगी मंत्रिमंडल के विस्तार की संभावनाओं तक सिकुड़ जाती हैं, जिसमें कुछ ‘नालायक’ मंत्रियों को हटाया व अरविंद कुमार शर्मा को समायोजित किया जाना है और योगी जिसके बहुत अनिच्छुक हैं.

गौरतलब है कि ये अटकलें पिछले दिनों तब जोर-शोर से शुरू हुईं जब गत मई में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले लखनऊ आए और उनके प्रति योगी का बर्ताव अच्छा नहीं रहा. फिर भाजपा के प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह राष्ट्रीय महामंत्री बीएल संतोष के साथ प्रदेश में पार्टी व सरकार की नब्ज टटोलने आए.

मंत्रियों व कार्यकर्ताओं के साथ गुपचुप यानी बंद कमरों तक की बैठकों के बाद वे दिल्ली लौट गए और वहां पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व महासचिवों की बैठक व संघ के मंथन से ‘शांति’ या कि ‘युद्ध विराम’ का संदेश दिया गया तो अटकलें थोड़ी थमीं जरूर, लेकिन 6 जून को जैसे ही राधामोहन सिंह ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और विधानसभाध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित से भेंट की और कहते हैं कि राज्यपाल को कोई बंद लिफाफा दिया, और जोर पकड़ गईं.

कहते हैं कि उन लिफाफे में योगी से नाखुश भाजपा के कोई ढाई सौ विधायकों के हस्ताक्षर हैं, जो इस पेशबंदी में दिए गए हैं कि केंद्रीय नेतृत्व की किसी कार्रवाई से नाखुश योगी अचानक विधानसभा भंग करवाने जैसी कोई चाल चलना चाहें तो उसे विफल किया जा सके.

साफ है कि यह तू डाल-डाल तो मैं पात-पात का खेल है. अलबत्ता, अब चर्चाओं का स्वरूप थोड़ा बदल गया है क्योंकि अटकलें लगाने वालों को योगी को हटाए जाने की कोई संभावना नजर नहीं आ रही. साफ कहें तो उन्हें नहीं लगता कि भाजपा इसकी हिम्मत कर पाएगी. इसके तीन बड़े कारण हैं.

पहला, यह कि पार्टी को लगता है कि विधानसभा चुनाव में अब इतना कम समय बचा है कि नेतृत्व परिवर्तन का कोई लाभ नहीं होने वाला-उलटे नुकसान हो सकता है. क्योंकि मंत्रियों, विधायकों और कार्यकर्ताओं में घोर असंतोष और जातिवाद बरतने व कानून-व्यवस्था दुरुस्त न रख पाने के अनेक आरोपों के बावजूद योगी परस्पर सहमति से हटने वाले नहीं हैं और जबरन हटाए जाने पर चुप नहीं बैठने वाले.

दूसरा, हालात ‘इधर कुंआ तो उधर खाई’ वाले मोड़ तक जा पहुंचे हैं, जिनके मद्देनजर नेतृत्व परिवर्तन करने से भी पार्टी का नुकसान ही होना है और न करने से भी. इसलिए उसमें एक विचार यह भी है कि जब नये नेतृत्व को चुनाव तक अपनी नई छवि गढ़ने भर को मौका नहीं मिलने वाला तो पुराने को हटाकर उसकी नाराजगी का जोखिम ही क्यों उठाया जाए?

प्रधानमंत्री ने जनवरी में अरविंद कुमार शर्मा को लखनऊ भेजा तो परिवर्तन की कवायदों के मद्देनजर वक्त थोड़ा उपयुक्त जरूर था, लेकिन अब उसे गंवाया जा चुका है.

तीसरा और सबसे महत्वपूर्ण कारण, जो योगी समर्थकों द्वारा आगे किया जा रहा है, यह है कि कोरोना से निपटने में विफलता के नाम पर उत्तर प्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन किया जाए तो केंद्र में क्यों न किया जाए? केंद्र सरकार ने ही कोरोना को कौन बड़ी सफलता से निपटाया है? फिर योगी ने बतौर मुख्यमंत्री ख़ुद को वैसे ही तो बनाया है जैसे प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी हैं. मंत्रियों और विधायकों की हैसियत उनके यहां भी वैसी ही है जैसी मोदी के यहां. नौकरशाहों के जरिये यहां भी सरकार चल रही है, केंद्र में भी.

इन कारणों के चलते भी कई स्तरों पर ‘सामने आते नहीं’ की रणनीति अपनाई जा रही है. क्योंकि माना जा रहा है कि पार्टी की अंदरूनी लड़ाई बाहर आई तो दूसरे दलों से सहयोग के समीकरण बनाने में भी बाधाएं आएंगी, पार्टी द्वारा अंदरखाने जिनकी कोशिशें की जा रही हैं. मिसाल के तौर पर मायावती का रुख कितना भी अनुकूल क्यों न हो, वे ऐसी पार्टी का साथ क्यों देना चाहेंगी, जिसमें लखनऊ से दिल्ली तक जूतमपैजार मचा हुआ हो?

फिर भी उसके दुर्भाग्य से इतनी बदमजगी बाहर आ चुकी हैं कि इन पंक्तियों के छपते-छपते योगी के मंत्रिमंडल के विस्तार की तारीख तय हो जाए या वह संपन्न हो जाए तो भी वह शायद ही एक टीम के तौर पर संगठन से समन्वय बरतकर काम कर पाए.

राधामोहन सिंह द्वारा योगी के कामकाज की मुक्त कंठ से प्रशंसा के बावजूद यह पूछा जाना नहीं ही रुका है कि उसके पीछे क्या है? पार्टी के बार-बार ‘सब कुछ ठीक है’ कहने के बावजूद कुछ भी ठीक न होने के संदेह थमने को नहीं आ रहे.

यह कहने वाले भी कम नहीं हैं कि उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की संगठन में प्रदेश अध्यक्ष पद पर वापसी भरपूर चर्चाओं के बावजूद इसलिए संभव नहीं हो पाई, क्योंकि मुख्यमंत्री उनके जैसे कद्दावर को उस पद पर नहीं देखना चाहते थे, भले ही गैर यादव पिछड़ों से धोखे का आरोप पार्टी पर और चस्पां हो जाए.

निष्कर्ष साफ है: प्रदेश का गर्मागर्म राजनीतिक माहौल मंत्रिमंडल विस्तार व संगठन में फेरबदल के रास्ते शांत पड़ जाए तो भी उसकी शांति की अवधि को लेकर आशंकाएं बनी रहेंगी, क्योंकि पार्टी फिलहाल, प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के मनों के बीच की गांठें खोलने में विफल रही है.

मजबूरी में वह जिस लीपापोती में लगी है, उससे लगता है कि हाथी के बाहर निकल आए दांतों को अंदर करने की असंभव कोशिश कर रही है. इसीलिए न पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं में एकजुटता का विश्वास पैदा कर पा रही है, न ही आम लोगों में.

जहां तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बात है, यह मानने के भी एक नहीं कई कारण हैं कि उसे योगी और मोदी दोनों से ज्यादा अपने हिंदुत्व के एजेंडा की फिक्र है. इस लिहाज से उत्तर प्रदेश में योगी, उनकी सरकार और साथ ही मोदी से उनके रिश्तों के भविष्य को लेकर द्रविड़ प्राणायाम का एक अर्थ यह भी है कि उसको उनके महानायकत्व पर भरोसा नहीं रह गया है.

हां, इस भरोसे के न रह जाने का एक कारण पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे भी हैं, कर्नाटक समेत कई और राज्यों में मुख्यमंत्रियों व क्षत्रपों के केंद्रीय नेतृत्व के विरुद्ध सिर उठाने से पैदा हुई समस्याएं भी.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र
अहमदाबाद: 17 किलोमीटर लंबी रथ यात्रा, एक लाख साड़ियां और...अमित शाह