पूर्व नौकरशाहों का खुला पत्र, कहा- यूपी में क़ानून व्यवस्था ध्वस्त, अंकुश न लगा तो लोकतंत्र का नाश तय

पूर्व नौकरशाहों ने कहा कि उत्तर प्रदेश में विरोध के अधिकार को दबाने के लिए हिरासत, आपराधिक आरोप और वसूली का आदेश आम तरीके बन गए हैं. उन्होंने पत्रकार सिद्दीक़ कप्पन की गिरफ़्तारी का भी उल्लेख करते हुए कहा कि मजिस्ट्रेट और पुलिस सहित यूपी में प्रशासन की सभी शाखाएं ‘ध्वस्त’ हो गई हैं.

योगी आदित्यनाथ. (फोटो साभार: फेसबुक/@CMO UP)

नई दिल्लीपूर्व नौकरशाहों के एक समूह ने खुला पत्र लिखकर उत्तर प्रदेश में क़ानून के शासन का खुला उल्लंघन और राज्य की पूरी व्यवस्था के चरमरा जाने की आलोचना की है.

उन्होंने कहा कि राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार एक ऐसा मॉडल पेश कर रही हैजहां हर कदम पर संविधान और क़ानूनों का उल्लंघन किया जा रहा है.

एक संवैधानिक आचरण समूहजिसका कई अन्य संबंधित प्रतिष्ठित नागरिकों ने समर्थन किया हैने बयान जारी कर कहा कि कार्यकारी मजिस्ट्रेट और पुलिस सहित यूपी में प्रशासन की सभी शाखाएं ‘ध्वस्त’ हो गई हैं.

उन्होंने कहा, ‘हमें डर है कि यदि इस पर अंकुश नहीं लगाया गया तो राज्य में राजनीति और संस्थाओं को होने वाले नुकसान का परिणाम लोकतंत्र का ही क्षय और विनाश होगा.’

इस बयान पर हस्ताक्षर करने वाले लोग किसी राजनीतिक दल से संबंध नहीं रखते हैंलेकिन ‘भारत के संविधान के प्रति समर्पित नागरिक’ हैं.

उन्होंने कहा कि विरोध के अधिकार को दबाने के लिए हिरासतआपराधिक आरोप और वसूली का आदेश आम तरीके बन गए हैंइन बातों के अलावा उन्होंने पत्रकार सिद्दीक कप्पन की गिरफ्तारी का भी उल्लेख किया. 

हस्ताक्षरकर्ताओं ने कहा कि राज्य में बड़े पैमाने पर मुठभेड़तथाकथित लव जिहाद कानूनराष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) का दुरुपयोग और सरकार द्वारा कोविड-19 संकट से निपटने में की गई लापरवाही गहरी चिंता का विषय है.

उन्होंने कहा कि विवादित नागरिकता संशोधन कानून (सीएएके प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ सैकड़ों एफआईआर दर्ज किएजिसमें 22 लोगों की मौत हुई और 705 लोगों को तमाम आरोपों में गिरफ्तार किया गया था.

समूह ने यह भी कहा कि राज्य में साल 2017 से 2020 के बीच 6,476 एनकाउंटर्स में 124 कथित अपराधियों को गोली मारी गई.

उन्होंने कहा कि हमें डर है कि यदि इस पर लगाम नहीं लगाई जाती है तो ये राज्य में लोकतंत्र के विनाश का कारण बनेगा.

पूर्व नौकरशाहों ने मौजूदा स्थिति में सुधार लाने के लिए कई उपाय सुझाए हैं.

बयान पर हस्ताक्षर करने वाले प्रमुख पूर्व सिविल सेवकों में नजीब जंगहर्ष मंदरशिवशंकर मेननअरुणा रॉयजूलियो रिबेरोजवाहर सरकार शामिल हैं. वहीं जस्टिस (सेवानिवृत्तएपी शाह और 200 से अधिक अन्य हस्ताक्षरकर्ताओं ने इसका समर्थन किया है.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
स्वास्थ्य के प्रति हमेशा सजग रहे डॉक्टर नीतिका शुक्ला
चित्र
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के साथ विकसित होने वाले औद्योगिक क्लस्टर के माध्यम से बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे
चित्र
पीएम मोदी का रोड शो, 400 पार के नारे से गूंजा गाजियाबाद
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र