जनहित में भय को समाचारों में प्राथमिकता नहीं देनी चाहिए, एडवोकेट राजीव गुप्ता

 

एडवोकेट राजीव गुप्ता 

 हिंदी दैनिक आज का मतदाता गाजियाबाद ,आरडीसी अधिवक्ता राजीव गुप्ता जो सदैव अपने वकालत के कार्यों  के साथ-साथ अनेक सामाजिक गतिविधियों में व्यस्त रहते हैं और अपने अलग अंदाज के लिए जाने पहचाने जाते हैं ,आप अपने अनुभव व विवेकशीलता के बदौलत अनेकों जनहित कार्यों को सीधे पीएमओ विभाग और ट्विटर एवं पत्रों के माध्यम से पूरा करा कर जनहित के सरोकार को परिपूर्ण करते रहते हैं ।अधिवक्ता राजीव गुप्ता सदैव ऊर्जावान रहते हुए आज के आधुनिक संचार माध्यमों व्हाट्सएप, फेसबुक, टि्वटर, इंस्टाग्राम आदि के द्वारा आम जनमानस को  ऊर्जावान बनाने में लगे रहते हैं । पूर्व की दो बड़ी आपदा जिससे पूरा विश्व सहम गया था भारत भी इससे अछूता नहीं था, करोना काल में भी  एडवोकेट राजीव गुप्ता ने अपने और परिवार को स्वस्थ रखते हुए लोगों के स्वास्थ्य के प्रति सजग और चिंतित रहे तथा अपने सार्थक संदेशों के माध्यम से पीड़ितों के सुख दुख में उनके साहस को बढ़ाने का कार्य सदैव करते रहे  । एडवोकेट राजीव गुप्ता ने बहुत ही बेबाकी से चर्चा में शामिल करोना की तीसरी लहर से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण सवालों के जवाब में कहा कि हम सभी नागरिकों को दो लहरों के अनुभव को ध्यान में रखते हुए स्वयं व सरकार दोनों को ही अपनी विवेक क्षमता का प्रयोग करते हुए भविष्य की तैयारी करनी चाहिए, जिससे तीसरे लहर के प्रकोप से बचा जा सके। एक अन्य महत्वपूर्ण सवाल के जवाब में आपने कहा कि दूसरी लहर में करोना से मृत्यु का एक कारण डर भी रहा है ।आज आवश्यकता इस बात की है कि डर  को बढ़ाने वाले समाचार को टीवी समाचार, समाचार पत्रों में देने के तरीके में बदलाव होना चाहिए ,समाचार को इस तरह जनमानस तक पहुंचाना चाहिए जिससे आम जनता जागरूक हो सके ना कि भयभीत हो जाए। एक महत्वपूर्ण सवाल के जवाब में आपने कहा कि यदि देश की जनमानस को तीसरी लहर का सामना करना पड़ता है जो कि हम सभी नागरिक चाहते हैं की तीसरी लहर ना आए फिर भी यदि आपदा आती है तो हम सभी नागरिकों को अपने जीवन को बचाने के लिए मास्क के प्रयोग को निरंतर रखते हुए 2 गज की दूरी को आधार मानते हुए भीड़-भाड़ वाले स्थान से बचना चाहिए, और आम जनमानस  को बाजारों में बिना वजह जाने से रुकना चाहिए। एडवोकेट राजीव गुप्ता ने जनमानस को देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विवेक शीलता कोविड-19 टीकाकरण का सबसे सटीक सार्थक प्रयास को बेहतर बताते हुए कहां की covid-19 टीकाकरण के मिशन को सभी नागरिकों को तुरंत जुड़ना चाहिए और टीका लगवाना चाहिए । आपने देश के सभी नागरिकों से अपील किया है कि यदि व्यक्ति बुजुर्ग सभी लोग नियमित रूप से दो बूंद सरसों का तेल प्रतिदिन अपनी जीभ  पर डालते हैं और अपने नाकों के द्वार पर लगाते हैं तो यह हमें पूर्ण विश्वास है कि समाज, शारीरिक एवं मानसिक रूप से काफी स्वस्थ रहेगा और करोना के प्रभाव से काफी दूर भी रहेगा।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र