वीडियो संदेश में अटककर बोलते दिखे जय शाह, कांग्रेस नेत्री बोलीं-ये शाहजादे न होते तो BCCI के चौकीदार भी न होते

 


देश के गृह मंत्री अमित शाह के बेटे और बीसीसीआई के सचिव जय शाह सोशल मीडिया पर अक्सर ट्रोल होते रहते हैं। विपक्षी दलों द्वारा उन्हें बीसीसीआई का सचिव बनाए जाने के मामले में कई बार सवाल उठाए गए हैं। कांग्रेस का कहना है कि देश के गृह मंत्री अमित शाह के बेटे होने के चलते उन्हें यह पद सौंपा गया है। अब एक बार फिर सोशल मीडिया पर जय शाह को ट्रोल किया जा रहा है।

दरअसल आगामी टी-20 वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया की घोषणा की गई है। बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने इसकी घोषणा करते हुए दिग्गज क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी के टीम के साथ जुड़ने का ऐलान किया है उन्होंने एक वीडियो जारी कर टीम इंडिया को बधाई देते हुए यह जानकारी साझा की है लेकिन जिस तरह से उन्होंने वीडियो संदेश दिया है। उसके लिए उन्हें ट्रोल किया जा रहा है। दरअसल वीडियो में साफ तौर पर देखा जा सकता है कि किस तरह से जय शाह हर वाक्य को अटक अटक कर और काफी सावधानी से बोल रहे हैं।

वीडियो को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि जैसे उनके सामने टेलीप्राम्प्टर को रखा गया है और वह बस पढ़कर जानकारी दे रहे हो। इस मामले में कांग्रेस नेता डॉ रागिनी नायक ने बीसीसीआई सचिव जय शाह की चुटकी ली है।

उन्होंने ट्वीट में उनकी वीडियो को शेयर कर लिखा है कि ये हैं दुनिया के सबसे अमीर और सशक्त क्रिकेट बोर्ड BCCI के सचिव Jay Shah, आप ही बताइए कि अगर ये अमित ‘शाह-ज़ादे’ न होते तो BCCI के ‘चौकीदार’ भी नियुक्त हो पाते।

 


 अलावा कई कांग्रेस नेताओं ने इस पर चुटकी लेते हुए मजेदार प्रतिक्रियाएं दी है। कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने कहा है कि ऐसा लगता है जैसे अंत में जय शाह फुल स्टॉप पढ़ना भूल गए हैं। कांग्रेस नेताओं के साथ-साथ वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने भी इस पर प्रतिक्रिया दी है।उन्होंने कहा है कि नाम है जय शाह और बीसीसीआई के बॉस हैं। हां, भाजपा में न तो वंशवाद है और ना ही बीसीसीआई में कोई राजनीतिक हस्तक्षेप है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र