स्वास्थ्य सबसे कीमती धन है हम सभी को इसके प्रति सदैव जागरूक रहना चाहिए, डॉ राजीव त्यागी

 

डॉ राजीव त्यागी

हिंदी दैनिक आज का मतदाता गाजियाबाद राज नगर एक्सटेंशन डॉ राजीव त्यागी सचिव गाजियाबाद नर्सिंग होम एसोसिएशन, ने एक वार्ता के अंतर्गत कहा कि आज हर नागरिक को यह समझना होगा कि स्वास्थ्य उसकी सबसे कीमती दौलत है अगर इंसान स्वस्थ है तो वह सबसे बड़ा धनी है। करोना महामारी ने हम सभी को यह आभास करा दिया कि स्वास्थ्य ही सब कुछ है अगर स्वास्थ्य नहीं है तो हमारा धन हमारे किसी काम नहीं आने वाला है, इसलिए बहुत आवश्यक है कि हम लोग किसी भी आपदा का इंतजार ना करें और सदैव जागरूक रहें और यह समझे और लोगों को भी समझाएं कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ा धन है। डॉक्टर राजीव त्यागी ने कहा कि आज विज्ञान बहुत आगे जा चुका है और वैज्ञानिक चिकित्सा पर हमें गर्व होना चाहिए कि कठिन से कठिन परिस्थिति में भी वैज्ञानिक चिकित्सा हमें सहारा देती है ,हमें स्वस्थ बनाती है और हमें निरोगी रखती है ।डॉ राजीव त्यागी ने कहा कि एलोपैथिक पद्धति आज पूरे विश्व में शीर्ष पर है और तमाम वैज्ञानिकों के रिसर्च ने यह साबित कर दिया है कि हम धीरे-धीरे मानवीय संरचना की हर तकलीफ और बीमारियों के इलाज को समाप्त करने में सक्षम है ,आज आधुनिक तकनीकी से हर बीमारियों का बहुत ही बारीकी से  अध्ययन के साथ-साथ उसकी सही स्थिति को सामने रखा जाता है ,जिसका श्रेय 21वीं सदी की आधुनिक चिकित्सा पद्धति को चाहता है, आज हम आम जनमानस से अपील करते हैं कि हम सदैव अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहें और निरंतर खानपान और स्वास्थ्य की जांच पड़ताल को एक अनिवार्य श्रृंखला माने और अनवरत निरोगी काया की परिकल्पना करते हुए स्वस्थ मन, स्वस्थ तन पर अपना विश्वास कायम रखें।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
स्वास्थ्य के प्रति हमेशा सजग रहे डॉक्टर नीतिका शुक्ला
चित्र
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के साथ विकसित होने वाले औद्योगिक क्लस्टर के माध्यम से बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर भी उपलब्ध होंगे
चित्र
मोदी खुद शहंशाह, मेरे भाई को शहजादा बोलते हैं: गुजरात में प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री पर किया पलटवार
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र