स्टिंग ऑपरेशन में फँसे संजय निषाद, बोले-मैं सबसे बड़ा गुंडा हूँ, पहले सपा को मार दूंगा फिर भाजपा को

 


उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए चुनावी बिसात चुकी है। हर राजनीतिक दल ने सियासी समीकरण की जोड़-तोड़ करने में जुटा हुआ है। इसी बीच निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद ने हाल ही में ऐलान किया है कि वह साल 2022 के विधानसभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन में लड़ेंगे।

 


 निषाद ने बताया है कि उनकी पार्टी इस बार प्रदेश में 70 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। इसी बीच सोशल मीडिया पर निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद का एक सनसनीखेज वीडियो वायरल हुआ है। एक न्यूज़ चैनल द्वारा किए गए स्टिंग ऑपरेशन में सामने आया है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव जीतने के लिए हिंसा करने की बात कर रहे हैं।इस स्टिंग ऑपरेशन में संजय निषाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को अपना दुश्मन बता रहे है। उनका कहना है कि भाजपा में रहकर इन दोनों को बता देंगे। संजय निषाद इसमें यह कहते नजर आ रहे हैं कि उत्तर प्रदेश में हमसे बड़ा गुंडा कौन हो सकता है। हम बंदूके चलवाएंगे। हमारे लोग ऐसे हैं कि मार कर फेंक देंगे। फिर मुकदमे भी वापस करवा लेंगे। हमारे लोग तो वैसे ही थाने में आग लगाने वाले हैं।इस स्टिंग ऑपरेशन पर संजय निषाद ने सफाई देते हुए इसे फर्जी करार दिया है उनका कहना है कि स्टिंग मे जो वीडियो दिखाई जा रही है। वो पूरी तरह से गलत है। इसके साथ ही उन्होंने इस स्टिंग ऑपरेशन के खिलाफ कोर्ट में जाकर कानूनी कार्रवाई करने की बात भी कह डाली है।  हालांकि अब तक इस मामले में भाजपा की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। माना जा रहा है कि भाजपा और निषाद पार्टी के बीच में होने वाले सीटों के समझौते पर इस स्टिंग ऑपरेशन का बुरा असर पड़ सकता है। आपको बता दें कि हाल ही में निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद ने गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की थी लेकिन दोनों पार्टियों के बीच अभी तक एक फॉर्मूले पर अभी सहमति नहीं बनी थी।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
संसद का शीतकालीन सत्र नहीं होगा, सरकार ने जनवरी में बजट सत्र बुलाने का सुझाव दिया
चित्र
मोदी खुद शहंशाह, मेरे भाई को शहजादा बोलते हैं: गुजरात में प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री पर किया पलटवार
चित्र