मनी लॉन्ड्रिंग केस में शिवसेना सांसद भावना गवली को ईडी का समन

 

महाराष्ट्र : प्रवर्तन निदेशालय ने शिवसेना सांसद भावना गवली को 4 अक्टूबर को पूछताछ के लिए बुलाया है. मनी लॉन्ड्रिंग केस में भावना गवली को ईडी ऑफिस में हाजिर होने को कहा गया है. दरअसल, गवली पर 18 करोड़ रुपए की हेराफेरी करने का आरोप है. उधर भावना गवली का कहना है कि बिना नोटिस दिए उन पर कार्रवाई की जा रही है. 48 वर्षीय भावना गवली महाराष्ट्र के यवतमाल-वाशिम से सांसद हैं.

गौरतलब है कि ईडी ने कल (28 अक्टूबर, मंगलवार) बड़ी कार्रवाई करते हुए भावना गवली की कंपनी के डायरेक्टर और उनके सबसे करीबी सहयोगी सईद खान को अरेस्ट कर लिया. मुंबई के स्पेशल कोर्ट ने उन्हें 1 अक्टूबर तक ईडी की हिरासत में भेज दिया है. सईद खान को वित्तीय धनशोधन रोकथाम अधिनियम के नियमों के तहत अरेस्ट किया है. अरेस्ट किए जाने के बाद सईद खान को स्पेशल पीएमएलए कोर्ट में हाजिर किया गया. कोर्ट ने इस मामले में आगे की जांच के लिए उसे ईडी की हिरासत में भेज दिया. वहीं ईडी ने पीएमएलए कोर्ट से कहा कि गवली ने 18 करोड़ रुपए की हेराफेरी करने के लिए सईद खान के माध्यम से एक ट्रस्ट को फर्जी तरीके से अपनी निजी कंपनी के रूप में तब्दील कर लिया.

करीब एक महीने पहले ईडी ने भावना गवली के 5 ठिकानों पर छापेमारी की थी. ईडी की यह छापेमारी 100 करोड़ के स्कैम के आरोप पर की गई थी. बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने आरोप लगाया था कि भावना गवली ने बैंकों और अन्य संस्थानों से 100 करोड़ रुपए लिए और उनका अवैध इस्तेमाल किया. किरीट सोमैया का आरोप है कि भावना गवली ने 55 करोड़ के कारखाने की खरीद 25 लाख में की. लेकिन भावना गवली ने ईडी की छापेमारियों पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि बिना नोटिस दिए उन पर कार्रवाई की जा रही है.

 

इससे पहले मंगलवार को महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब से भी ईडी ने आठ घंटे तक पूछताछ की. अनिल परब ने पूछताछ के बाद पत्रकारों को बताया कि उन्होंने ईडी के साथ पूछताछ में पूरा सहयोग किया है. आगे भी वे सहयोग करेंगे. लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि वे अपने बारे में बात करेंगे. किसी और के बारे में बात नहीं करेंगे. बता दें कि महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग मामले के तार अनिल परब के साथ जुड़े होने का आरोप है.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
संसद का शीतकालीन सत्र नहीं होगा, सरकार ने जनवरी में बजट सत्र बुलाने का सुझाव दिया
चित्र
मोदी खुद शहंशाह, मेरे भाई को शहजादा बोलते हैं: गुजरात में प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री पर किया पलटवार
चित्र