माफियाओं और अपराधियों पर कार्रवाई से क्यों होता है अखिलेश को दर्द: सिद्धार्थनाथ

 


ट्विटर छोड़ मैदान में आइए पता चल जाएगी जमीनी हकीकत

कुशासन से आजिज जनता भाजपा के सुशासन की हुई मुरीद

लखनऊ,: प्रदेश सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पर हमला बोलते हुए कहा कि ट्वीट करने से जमीनी हकीकत का पता नहीं चलता. मैदान में आइए, आपको जनता के मूड मिजाज का पता चल जाएगा. सपा के शासन काल की अराजकता और कुशासन वह आज तक भूली नहीं है. पहली बार उसने एक दमदार,ईमानदार एवं पारदर्शी सरकार और उसके काम देखे हैं. वह इन कामों के नाते योगी सरकार की मुरीद हो चुकी है. चुनावों में आपका मुगालता दूर हो जाएगा तब तक ख्वाब देखते रहिए.

 सोमवार को यहां जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार ने साढ़े चार साल में सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास की भावना से कार्य किया है. इस दौरान हम प्रदेश के बारे में देश-दुनिया के लोगों का नजरिया बदला है. कानून का राज कायम हुआ है. अपराधी और माफिया त्रस्त हैं और जनता भयमुक्त, पर इससे आपको क्यों दर्द होता है?

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश सरकार की साढ़े चार साल की उपलब्धियां सोलह आने सच का दस्तावेज है, पर जिसके राजनीति की बुनियाद ही झूठ हो उसे सब झूठ ही दिखेगा.

भाजपा राज में ठगों की दुकान बंद है. पहले ठगों का विकास होता था सरकार के सारे काम ठगों के भरोसे होते थे. अब पारदर्शी सरकार मे जनता का विकास हो रहा है. प्रदेश प्रवक्ता ने अखिलेश यादव को नसीहत दी कि वे आनलाइन झूठ के प्रशिक्षण की बजाय जनता के बीच आफलाइन आयें तो असलियत से वाकिफ होंगे. चुनाव में उन्हें जनता बता देगी दमदार कौन है और दुमदार कौन है. सिद्धार्थनाथ ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष से यह पूछा कि वैश्विक महामारी कोरोना कालखंड में वह कहाँ थे? बाढ़ में भी आप कहीं नजर नहीं आए. इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कहां थे सब जानते हैं.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
संसद का शीतकालीन सत्र नहीं होगा, सरकार ने जनवरी में बजट सत्र बुलाने का सुझाव दिया
चित्र
मोदी खुद शहंशाह, मेरे भाई को शहजादा बोलते हैं: गुजरात में प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री पर किया पलटवार
चित्र