सरकारी मंडियों में व्याप्त भ्रष्टाचार पर वरूण गांधी सख्त, कहा-साक्ष्य मिलते ही जाऊंगा कोर्ट

 


पीलीभीत : उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से बीजेपी सांसद वरुण गांधी इन दिनों किसानों के मुद्दों पर वह सरकार को लगातार घेर रहे हैं. इस बीच वरुण गांधी पीलीभीत मंडियों में धान क्रय केंद्र का निरीक्षण करने पहुंचे. जहां उन्होंने जमकर सरकार पर हमला किया है.

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश का किसान पूरी तरह से बर्बाद हो चुका है. यही नहीं प्रदेश में किसानों को खत्म करने का काम किया जा रहा है. वरुण गांधी ने सरकारी मंडियों में व्याप्त भ्रष्टाचार पर अधिकारियों की क्लास लगाते हुए उन्हे दो टूक कहा, अब मेरे प्रतिनिधि यहीं रहेंगे. वे भ्रष्टाचार के सुबूत तलाशेंगे. साक्ष्य मिलते ही वह सरकार से नहीं अदालत से कार्रवाई करने की गुहार लगाएंगे.

सरकारी क्रय केंद्र सिर्फ कागजों पर चल रहे हैं

 


सांसद वरुण गांधी ने कहा कि इस वक्त सरकारी क्रय केंद्र सिर्फ कागजों पर चल रहे हैं. सरकारी क्रय केंद्र पर किसानों का धान नहीं तौला जा रहा और अगर कोई लेकर आता है, तो उसे तमाम खामियां बता दी जाती है और वहां से टरका दिया जाता है. जिसके बाद मंडी के बाहर खड़े दलाल किसानों का धान औने पौने दामों में खरीद लेते हैं और बाद में वही दलाल सरकारी क्रय केंद्रों पर आंकड़ों में धान को दर्ज कर मोटा मुनाफा कमा लेते हैं. उत्तर प्रदेश का किसान पूरी तरह से बेहाल और बर्बाद हो चुका है. सरकारी सेंटर पर किसानों से सेंटर इंचार्ज प्रति कुंटल पर 100-200 रुपये की उगाही की जाती है. मजबूरन किसान प्रताडि़त होकर दलालों के हाथ धान भेज देता है.बता दें कि सांसद वरुण गांधी ने आज अपने आधिकारिक ट्वीटर अकाउंट से ट्वीट कर एक वीडियो भी शेयर किया. जिसमें वो सरकारी मंडी के किसी अधिकारी को सचेत करते नजऱ आ रहे हैं. वे उस अधिकारी को कह रहे हैं कि, हाल ही में देखा गया है कि मोहम्मदी में एक किसान ने अपने धान में खुद आग लगा दी थी. पीलीभीत में भी ऐसा हुआ है. ऐसे प्रकरण पूरे देश और दुनिया में प्रदेश के लिये शर्म का सबब बन गए हैं. उन्होंने आगे कहा, प्रदेश का किसान एकदम बदहाल हो चुका है. उसे और परेशान न करें.शुक्रवार को यह चेतावनी बहेड़ी मंडी समिति में किसानो के धान तुलाई की स्थिति देखने निरीक्षण को पहुचे स्थानीय सांसद वरूण गांधी ने दी. किसानों के मुद्दे पर अपनी ही पार्टी के इतर बयान दे रहे वरूण गांधी यहां भी किसानो के मुद्दे पर काफी नाराज दिखे.

टिप्पणियाँ