शाहरुख खान को भाजपा ज्वाइन कर लेनी चाहिए, बेटे को बेल भी मिलेगी, देशभक्ति का सर्टिफिकेट भी : आचार्य प्रमोद

 


बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को आज भी मुंबई क्रूज शिप ड्रग्स मामले में कोर्ट द्वारा जमानत नहीं दी गई है। आर्यन खान इस वक्त मुंबई की आर्थर रोड जेल में बंद है।

3 अक्टूबर को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था।

जिसके बाद सोशल मीडिया पर शाहरुख खान के पूरे परिवार को ट्रोल भी किया जा रहा है। वहीं कई विपक्षी नेता आर्यन खान के समर्थन में भी बोल रहे हैं।

इस मामले में धर्म गुरु आचार्य प्रमोद ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है।उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “शाहरुख खान को भाजपा ज्वाइन कर लेनी चाहिए। बेटे की बेल के साथ-साथ देशभक्ति का सर्टिफिकेट भी मिल जाएगा।”

 

इससे पहले कई बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान और उनकी पत्नी गौरी खान के लिए अपना समर्थन जाहिर किया है।

दरअसल सोशल मीडिया पर यह मुद्दा भी काफी चर्चा में बना हुआ है कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा आर्यन खान के पास से ना कोई ड्रग्स और ना ही कोई कैश बरामद किया गया है। फिर उन्हें क्यों जमानत नहीं दी जा रही?

जबकि पहले ऐसा कई बार हुआ है कि ऐसे मामलों में फ़िल्मी कलाकारों को इस तरह के मामले में आसानी से जमानत दी जा चुकी है।

कई विपक्षी नेताओं ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा आर्यन खान की जमानत याचिका का विरोध किए जाने के खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया दी है।

उन्होंने एनसीबी पर ही सवाल खड़े करते हुए कहा है कि मुंद्रा पोर्ट पर इतनी बड़ी तादाद में ड्रग्स की खेप पकड़ी गई।


लेकिन उस पर कोई ठोस कार्रवाई की खबरें सामने नहीं आई। जबकि आर्यन खान को बुरी तरह से बदनाम किए जाने की कोशिश की जा रही है।आपको बता दें कि आर्यन खान को आज मुंबई सेशंस कोर्ट से जमानत नहीं मिल पाई है। इसलिए उनके वकील कल बॉम्बे हाई कोर्ट में जमानत याचिका डाली जा सकती हैं।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र