वैक्सीन के लिए आधार कार्ड दिखाने के लिए दबाव ना बनाए सरकार: सुप्रीम कोर्ट

 


नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट में पिछले दिनों कोविड-19 टीकाकरण के लिए लोगों से पहचान के तौर पर सिर्फ आधार कार्ड पेश करने के लिए दबाव न डाले जाने के लिए याचिका दायर की गई थी. जिस पर सुनवाई करते हुए जस्टिस धनंजय वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने याचिका पर परीक्षण करने का निर्णय लेते हुए सरकार को नोटिस जारी किया.दरअसल याचिकाकर्ता का कहना है कि सात ऐसे पहचान पत्र हैं, जिसके द्वारा पंजीकरण किया जा सकता है, लेकिन टीकाकरण केंद्र पर लोगों से आधार की मांग की जाती है. केंद्रों पर कहा जाता है कि आधार के बिना टीकाकरण नहीं हो सकता. उन्होंने कहा कि नियम सिर्फ कागजों पर है. आधार कार्ड से लिंक होना अब भी जरूरी है.

 

वहीं सुप्रीम कोर्ट ने शुरुआत में याचिकाकर्ता की ओर से पेश वकील से कहा, आप एप्प के एफएक्यू वाले खंड में जाइए. आप देखेंगे कि उसमें पहचान पत्रों की सूची है, जिसके माध्यम से आप टीकाकरण के लिए पंजीकृत कर सकते हैं. आप ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड आदि से पंजीकरण कर सकते हैं. आप अखबार की रिपोर्ट पर नहीं जाइए. क्या आपने खुद कोविन एप्प को देखा है. इसे अपडेट किया गया है.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
एलआईसी विश्वास और पारिवारिक सुरक्षा ,उज्जवल भविष्य और सम्मान का प्रतीक है प्रशांत वशिष्ठ,
चित्र
शिक्षा और चिकित्सा हर किसी को निशुल्क मिले कुल भूषण त्यागी
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र