मुख्यमंत्री ने काशी क्षेत्र के भारतीय जनता पार्टी के सांसदों, विधायकों, जिलाध्यक्षों एवं प्रभारियांे की बैठक को सम्बोधित किया

 





योगी आदित्यनाथ जी ने आज यहां अपने सरकारी आवास पर आयोजित काशी क्षेत्र के भारतीय जनता पार्टी के सांसदों, विधायकों, जिलाध्यक्षों एवं प्रभारियांे की बैठक को सम्बोधित किया।  उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केन्द्र व प्रदेश सरकार द्वारा पूरे राज्य में व्यापक रूप से विकास कार्य कराए गये हैं। सभी जनप्रतिनिधिगण केन्द्र व प्रदेश सरकार द्वारा कराए गये कार्याें और उपलब्धियों के सम्बन्ध में जनता से प्रभावी संवाद बनाएं। उन्होंने कहा कि आमजन के बीच सकारात्मक एवं प्रभावी उपस्थिति के लिए संगठन एवं जनप्रतिनिधिगण तथा सांसद एवं विधायकगण के बीच बेहतर समन्वय आवश्यक है। सभी जनप्रतिनिधि बेहतर पारस्परिक समन्वय के साथ कार्य करें। हमारी समन्वित ताकत और टीमवर्क आगामी विधानसभा चुनाव में उपयोगी सिद्ध होगा।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि बीते साढ़े वर्षाें में राज्य सरकार ने बिना भेदभाव के गरीब और वंचित तबके को शासन की विभिन्न योजनाआंे का लाभ दिलाया है। सरकार की इन कोशिशों से प्रदेश में अंतिम पायदान के व्यक्तियों के जीवन में बदलाव आया है। प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व और मार्गदर्शन में किसान, महिला, नौजवान आदि सभी वर्गाें के सपने साकार हो रहे हैं। इससे जनता में शासन के प्रति विश्वास तथा सकारात्मक वातावरण का जन्म हुआ है। इसी आधार पर हमें उन तक अपनी पहुंच बनानी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने जनप्रतिनिधिगण को शारदीय नवरात्रि की बधाई देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व कोरोना प्रबन्धन का कार्य शानदार ढंग से किया गया। कोरोना का वायरस रूप बदलता रहता है। इसलिए इसके सम्बन्ध मंे लगातार सावधानी एवं सतर्कता बरते जाने की जरूरत पर बल देते हुए उन्होंने जनप्रतिनिधिगण से इस सम्बन्ध मंे निरन्तर सजग रहने का आह्वान किया।

इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी ने काशी क्षेत्र के सांसद व विधायकगण से उनके क्षेत्र में विकास कार्याें की प्रगति एवं जनाकांक्षाओं के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। उन्हांेने कहा कि क्षेत्र के जनप्रतिनिधिगण के सुझाव रचनात्मक ऊर्जा से भरपूर हैं। सांसद व विधायकगण ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार के प्रयास से आज प्रत्येक जरूरतमन्द को शासन की योजनाओं का सीधा लाभ मिल रहा है। मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में विगत साढ़े चार वर्षाें में प्रदेश में अभूतपूर्व ढंग से विकास योजनाओं को आगे बढ़ाया गया है। महिला स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से उनके स्वावलम्बन, किसान की कर्ज माफी, पराली जलाने पर दर्ज मुकदमें की वापसी, किसान सम्मान निधि तथा सिंचाई परियोजनाओं को तेजी से पूर्ण किये जाने से सभी को लाभ हुआ है।

बैठक के दौरान जनप्रतिनिधियों को बताया गया कि संगठन द्वारा 100 दिन के 100 काम की योजना बनायी गयी है। सभी जनप्रतिनिधिगण इसके तहत होने वाले कार्यक्रमों में सक्रिय सहभागिता करते हुए उन्हें सफल बनाने का भरपूर प्रयास करें। इन कार्यक्रमों के अन्तर्गत विधान सभा स्तर पर किसानों, महिलाओं, नौजवानों आदि के सम्मेलन आयोजित किये जाएंगे। आगामी दो-चार दिनों में 100 दिन में 100 कार्याें की सूची उपलब्ध करा दी जाएगी।


 
सभी सांसद व विधायकगण एक-एक कार्यकर्ता और मतदाता तक सीधा सम्पर्क बनाएं। विशेष सदस्यता अभियान के माध्यम से डेढ़ करोड़ नये सदस्य पार्टी से जोड़े जाने है। जनप्रतिनिधिगण सार्वजनिक स्थलों पर कम से कम 10 शिविर लगाकर बड़ी संख्या में सदस्य बनाने में सक्रिय सहयोग करें। मतदाता सूची के पुनरीक्षण पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। प्रत्येक विधायक अपने क्षेत्र की मतदाता सूचियांे की गहन पड़ताल कर लें। इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि एक भी पात्र व्यक्ति मतदाता बनने से छूटने न पाये।

आगामी 15 अक्टूबर से पन्ना प्रमुख बनाने का अभियान चलाया जाएगा। जिसका नाम मतदाता सूची के पन्ने पर होगा, वही पन्ना प्रमुख बन सकता है। सोशल मीडिया में ‘मैं भी पन्ना प्रमुख’ ट्रेण्ड कर रहा है। सभी जनप्रतिनिधिगण पन्ना क्रमांक के साथ फोटो डालते हुए सोशल मीडिया पर ‘मैं भी पन्ना प्रमुख’ अभियान में सम्मिलित हों। इस बार पन्ना प्रमुखों का सम्मेलन भी मण्डल स्तर पर आयोजित किया जाएगा।

इस अवस पर उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य, डॉ0 दिनेश शर्मा, प्रदेश प्रभारी  राधा मोहन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष  स्वतंत्र देव सिंह, प्रदेश संगठन महा मंत्री सुनील बंसल सहित जनप्रतिनिधिगण एवं पदाधिकारी उपस्थित थे।
टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
संसद का शीतकालीन सत्र नहीं होगा, सरकार ने जनवरी में बजट सत्र बुलाने का सुझाव दिया
चित्र
मोदी खुद शहंशाह, मेरे भाई को शहजादा बोलते हैं: गुजरात में प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री पर किया पलटवार
चित्र