कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नई राजनीतिक पार्टी बनाने का किया ऐलान, भाजपा के साथ करेंगे सीट शेयरिंग

 


चंडीगढ़,: पंजाब में राजनीतिक उथल-पुथल के बाद आखिरकार आज पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नई राजनीतिक पार्टी बनाने का ऐलान कर दिया है. उन्होंने कहा कि हम चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार हैं.

कैप्टन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘हां, मैं नई पार्टी बना रहा हूं. निर्वाचन आयोग से नाम और चुनाव चिह्न की मंजूरी मिलने के बाद इसका ऐलान करूंगा. मेरे वकील इस पर काम कर रहे हैं.’ बीजेपी के साथ गठबंधन के सवाल अमरिंदर ने कहा, ‘मैंने बीजेपी के साथ गठबंधन की बात कभी नहीं कही. हम सीट शेयरिंग कर सकते हैं. हालांकि इस बारे में बीजेपी के साथ कोई बातचीत नहीं हुई है, लेकिन मैं इस बारे में सोच रहा हूं.’

इससे पहले अमरिंदर सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘मेरे समर्थकों को डराने का प्रयास हो रहा है और वह भी सिर्फ मेरे साथ खड़े रहने के लिए जोकि पूरी तरह मूर्खतापूर्ण है. लोग मेरे साथ खड़े हैं, क्योंकि वे पंजाब की शांति और विकास के लिए काम करना चाहते हैं और करते रहना चाहते हैं. आप हमें ऐसी निम्न स्तर की राजनीति से नहीं हरा सकते और हम पंजाब के भविष्य के लिए निश्चित रूप से लड़ते रहेंगे.’

सिद्धू जहां से भी चुनाव लड़ेंगे, हम उनके खिलाफ लड़ेंगे
पंजाब के मौजूदा कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के साथ अपनी राजनीतिक अदावत के बारे में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एक बार अपनी प्रतिज्ञा दोहराते हुए कहा कि वे जहां से भी चुनाव लड़ेंगे, हम उनके खिलाफ लड़ेंगे. अमरिंदर ने कहा कि हम 117 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे, चाहे वह सीटों पर समझौता हो या अपने बूते लड़ेंगे. सीमाई राज्यों में सीमा सुरक्षा बल के अधिकार क्षेत्र के दायरे को बढ़ाकर 50 किलोमीटर करने के केंद्र सरकार के फैसले पर अमरिंदर सिंह ने कहा कि सुरक्षा बल देश की सुरक्षा पर नियंत्रण रखते हैं, कोई भी राज्य पर नियंत्रण नहीं करने आया है.बीएसएफ पंजाब को टेकओवर करने नहीं आई है

 


पंजाब के वर्तमान गृह मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा पर पलटवार करते हुए अमरिंदर सिंह ने कहा कि साढ़े 9 साल तक राज्य का गृह मंत्री रहा और 1 महीने गृह मंत्री रहने वाले लोग कह रहे हैं कि उन्हें मुझसे ज्यादा पता है. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि खालिस्तान और पाकिस्तान मिलकर काम कर रहे हैं. बीएसएफ पंजाब को टेकओवर करने नहीं आई है, बल्कि देश की सुरक्षा के लिए पंजाब पुलिस की मदद के लिए आगे आई है. ये सीमाई राज्य में हो रहा है. उन्होंने कहा कि पंजाब की सुरक्षा सबकी जिम्मेदारी है, जहां जरूरत है, पंजाब के हित में सरकार का साथ देना चाहिए.

बतौर मुख्यमंत्री मैंने अपने 92 फीसदी से ज्यादा वादे पूरे किए
उन्होंने कहा कि कोई भी पंजाब में अशांति नहीं चाहता है. हमें ये समझना होगा कि पंजाब ने बहुत बुरा दौर देखा है. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सुरक्षा के मुद्दे पर वे मेरा मजाक बनाते हैं. मेरी बेसिक ट्रेनिंग एक सैनिक की रही है. 10 साल तक मैंने सेवा दी है. मेरी ट्रेनिंग पीरियड से लेकर जब मैंने आर्मी छोड़ी. तब से मुझे बेसिक्स पता है. पंजाब के मुख्यमंत्री रहने के दौरान अपनी सरकार की उपब्धियां गिनाते हुए अमरिंदर सिंह ने कहा कि बतौर मुख्यमंत्री मैं अपने सभी वादे पूरे कर लेता. 92 फीसदी से ज्यादा वादे पूरे कर दिए थे. पंजाब की सुरक्षा मेरे लिए सबसे महत्वपूर्ण है और सुरक्षा के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा.

टिप्पणियाँ