शाहरुख खान को एक और झटका, बायजूस ने लगाई विज्ञापनों पर रोक

 


मुंबई : बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान को एक के बाद एक मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है. दरअसल देश की सबसे मूल्यवान शिक्षा-प्रौद्योगिकी कंपनी बायजूस ने विज्ञापनों पर रोक लगा दी है. बायजूस ने यह फैसला उस वक्त लिया जब शाहरुख खान का बेटे को क्रूज शिप पर ड्रग्स पार्टी करने के आरोप में हिरासत में ले लिया गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अग्रिम बुकिंग के बावजूद बायजूस ने शाहरुख खान के सभी विज्ञापनों को बंद कर दिया है. मालूम हो कि शाहरुख खान बायजूस के ब्रांड एंबेसडर हैं.

बायजूस किंग खान की सबसे बड़े स्पॉन्सरशिप डील्स में से एक था. इसके अलावा वे हुंडई, एलजी, दुबई टूरिज्म, आईसीआईसीआई बैंक और रिलायंस जियो जैसी कई कंपनियों के लिए भी चेहरा हैं.

आपको बता दें कि बायजूस ब्रांड को एंडोर्स करने के लिए शाहरुख खान को सालाना तीन से चार करोड़ रुपये का भुगतान करती है. अभिनेता 2017 से इस कंपनी के ब्रांड एंबेसडर हैं.

 


दरअसल, शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को क्रूज शिप पर ड्रग्स पार्टी करने के आरोप में पुलिस हिरासत में ले लिया गया. जिसके बाद लोगों ने ट्रोल करना शुरू कर दिया. लोग बायजूस को लेकर भी सवाल उठाने लगे थे. वे पूछने लगे कि शाहरुख को अपना ब्रांड एंबेसडर बनाकर कंपनी क्या संदेश देना चाहती है. यहां तक कि लोगों ने पूछा कि क्या शाहरुख अपने बेटे को यही सिखा रहे हैं? एक ट्विटर यूजर ने लिखा कि, रेव पार्टी कैसे करें? बायजूस की ऑनलाइन क्लास में जुड़ा नया सिलेबस. यही कारण है कि बायजूस ने विज्ञापनों पर रोक लगा दी है.

गौरतलब है कि बायजूस ने इसी सप्ताह 30 करोड़ डॉलर की बड़ी फंडिंग जुटाई थी. इसके बाद कंपनी की वैल्युएशन 18 अरब डॉलर यानी करीब 1,342.10 अरब रुपये हो गई है. जबकि साल की शुरुआत में पिछले फंडिंग राउंड के बाद बायजूस की वैल्यू 16.5 अरब डॉलर थी.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र