समीर वानखेड़े को मिलेगी Z+ सुरक्षा, राउत बोले-जो भी हमारे खिलाफ बोलता है उसे केंद्र सुरक्षा देती है

 


मुंबई क्रूज शिप पर ड्रग्स के मामले में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को गिरफ्तार करने वाले नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेडे इस वक्त खुद जांच के घेरे में आ चुके हैं।

महाराष्ट्र सरकार के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक द्वारा उन पर कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं।इसके साथ ही आर्यन खान मामले में एनसीबी द्वारा पेश किए गए गवाह भी अब समीर वानखेड़े के खिलाफ खड़े हुए हैं।

इस मामले में गृह मंत्रालय ने समीर वानखेड़े की सुरक्षा बढ़ाने का फैसला किया है।

बताया जाता है कि एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े को जल्द ही जेड प्लस सुरक्षा दी जा सकती है। ऐसे में गृह मंत्रालय द्वारा लिए गए फैसले पर शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है।उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए समीर वानखेड़े को दी जाने वाली जेड प्लस सिक्योरिटी पर सवाल खड़े हैं।

शिवसेना नेता संजय राउत का कहना है कि जो लोग सरकार पर उंगली उठाते हैं, उन्हें सुरक्षा दी जाती है।

ऐसा भी नहीं है कि अगर किसी को जेड प्लस सुरक्षा दी जाती है। तो उससे पूछताछ नहीं की जा सकती। लेकिन महाराष्ट्र सरकार पर जो लोग उंगली उठाने का काम करते हैं।


उन्हें भाजपा सरकार द्वारा इसी तरह जेड प्लस सुरक्षा के साथ सम्मानित किया जाता है। आपने देखा होगा कि ऐसे लोगों को भाजपा द्वारा जेड प्लस सुरक्षा दी जाती है।महाराष्ट्र को सुरक्षित राज्य बताते हुए शिवसेना नेता ने कहा है कि मैं किसी पर भी उंगली नहीं उठाना चाहता। लेकिन यहां पर सभी सुरक्षित हैं।अगर लोगों को इस तरह सुरक्षा दी जाती है। तो इसका मतलब है कि केंद्र सरकार के पास बहुत सारे सुरक्षा बल है। अगर ऐसा है तो उन्हें इन सुरक्षाबलों को जम्मू कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश में भेजना चाहिए।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र