मेघालय के राज्यपाल बोले-कुतिया भी मरती है तो दिल्ली के नेता शोक मनाते हैं, 600 किसान मर गए फिर भी ये चुप हैं

 


मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बार फिर मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने प्रदर्शनकारी किसानों के प्रति सरकार के रवैये पर सवाल उठाए हैं।

मलिक ने जयपुर में एक कार्यक्रम में भाषण देते हुए कहा, ” देश में इतना बड़ा आंदोलन आज तक नहीं चला, जिसमें 600 लोग शहीद हो गए। कुतिया भी मरती है तो दिल्ली के नेताओं का शोक संदेश जाता है। लेकिन 600 किसानों का प्रस्ताव (संदेश) लोकसभा में पास नहीं हुआ।”इसके अलावा राज्यपाल ने कहा, “आजकल जो किसानों का मुद्दा है, उस पर अगर बोलूंगा तो कंट्रोवर्सी हो जाएगी। ये अखबार वाले ऐसा कर देते हैं कि मैं दो हफ्तों तक इंतजार करता हूं कि दिल्ली से कहीं कोई टेलीफोन तो नहीं आया। हालांकि गवर्नर को हटाया तो नहीं जा सकता, फिर भी मेरे शुभचिंतक तलाश में रहते हैं कि ये कुछ बोलें और हटें।”सत्यपाल मलिक ने अडानी जैसे बड़े उद्योगपतियों पर निशाना साधते हुए कहा, “किसानों का माल कम दाम में खरीदकर फिर बड़े दाम में बेचने के लिए बैठ गए हैं बाजार में। अडानी का तो एक गोदाम भी बन गया पानीपत में जब पार्लियामेंट में कानून भी पास नहीं हुआ।”मलिक पहले भी कई बार मोदी सरकार पर हमलावर रहे हैं। उन्होंने बीते दिनों जम्मू-कश्मीर और गोवा की भाजपा सरकारों पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। उनकी मानें तो दिल्ली के कुछ बड़े (भाजपा) नेताओं ने उन्हें राज्यपाल बनाया है, और जब वो सब चाहेंगे तो मलिक इस्तीफा दे देंगे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र