योगी के गढ़ में गरजी प्रियंका बोलीं, 70 सालों की मेहनत भाजपा ने सात सालों में गवां दी

 


गोरखपुर: कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव व उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी रविवार को गोरखपुर पहुंच गई. यहां चंपा देवी पार्क से गोरखपुर-बस्ती मंडल की 41 सीटों को एक साथ साध रही हैं. उन्होंने कहा कि यह सरकार जनता के खिलाफ आग उगल रही है. लोगों को मदद की जगह अत्याचार हो कर रही है.


प्रियंका गांधी ने कहा कि मैं कुछ महीने पहले प्रयागराज बसवार गांव गई, वहां पुलिस ने निषादों की नाव को जला दिया था. नदी पर किसी का अधिकार है तो वो निषादों का है. आज किसान प्रताडि़त है त्रस्त है, सरकार उनकी बिल्कुल नहीं सुनी जा रही है.प्रियंका ने कहा कि योगी आदित्यनाथ का शासन गुरु गोरखनाथ जी के विचारों से बिल्कुल अलग चल रहा है. जहां लोग संघर्ष कर रहे हैं और जहां मदद की जरुरत है वहां सरकार कुछ नहीं करती है और सरकार मुंह फेर लेती है. खाद, खेती, फसल सब बड़े बड़े उद्योगपतियों के हाथ में दे दी गई है.

उन्होंने कहा कि खाद के लिए लाइन में लगे लगे लोगों की मौत रही है. जब मैंने मृत किसानों के परिवार से मिली तो वहां कुछ नहीं था. न वहां सरकारी मदद थी, न गैस सिलेंडर था, था तो सिर्फ उस किसान का रोता हुआ परिवार. कोरोना में जिनके भी रोजगार खत्म हुए, लेकिन उनके लिए सरकार ने कोई कदम नहीं उठाये.प्रियंका ने कहा कि सारी संपत्तियां बेच डाली है. कांग्रेस ने रेल, हवाई अड्डा सब कुछ बना के दिया। 70 सालों की मेहनत भाजपा ने सात सालों में गवां दी है। तीन युवा हर रोज बेरोजगारी के कारण आत्महत्या कर रहे हैं.

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री झूठ बोलने के अलावा कभी सच नहीं बोलते हैं. सपा, भाजपा और बसपा ने चीनी मिलों को औने-पौने दामों पर नीलाम कर दिया. यूपी के बुनकर और किसान हताश है, निराश है, हैरान है, परेशान है। हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री संत हैं, महंत हैं लेकिन झूठ के अलावा कभी सच नहीं बोलते.उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी से पूछना चाहता हूं आपने कौन सा ऐसा काम किया, पांच बार सांसद रहे और अब मुख्यमंत्री हैं लेकिन गोरखपुर में गली गली में कमर से ऊपर तक पानी लगने का काम हुआ है। सड़क चौड़ीकरण के नाम पर नाली को ऊंचा करके लोगों को डूबे में रहने को मजबूर किया गया. इस सरकार ने गन्ना, गंडक, गरीबी के लिए कोई काम नहीं किया। आज लडऩे वाले का नाम प्रियंका गांधी है और घर में बैठने वाले का नाम अखिलेश यादव और मायावती है.प्रतिज्ञा रैली के माध्यम से दोनों मंडलों के लोगों से महिलाओं को 40 प्रतिशत सीटों पर हिस्सेदारी, किसानों का पूरा कर्ज माफ, बिजली बिल हाफ और कोरोना काल का पूरा बकाया साफ करने, 20 लाख को सरकारी रोजगार देने जैसे वादों को हम वचन निभाएंगे नारे की प्रतिज्ञा लेंगी.

गोरखपुर में प्रियंका गांधी की रैली में मंच पर नेताओं का जमावड़ा लगा है। इस सभा में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, माइनॉरिटी सेल के राष्ट्रीय चेयरमैन इमरान प्रतापगढ़ी, सलमान खुर्शीद, पीएल पुनिया, प्रमोद तिवारी, पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह, सांसद दीपेंद्र हुड्डा समेत कई वरिष्ठ नेता मंच पर मौजूद हैं.

टिप्पणियाँ