ऑस्ट्रेलिया ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को दी मंजूरी, बिना रोकटोक कर सकेंगे यात्रा

 

नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया सरकार ने यात्रा को लेकर भारत बायोटेक की को वैक्सीन को मंजूरी दे दी है. इनमें भारत की स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सीन भी शामिल है. जिसे हैदराबाद की कंपनी भारत बायोटेक ने विकसित किया है. सरकार ने पर्यटकों के वैक्सीनेशन स्टेटस में वैक्सीन को मान्यता दी है. यानी अब कोवैक्सीन लगवाने वाले भारतीय यात्री बिना रोकटोक ऑस्ट्रेलिया की यात्रा कर सकेंगे. इस बात की जानकारी भारत में ऑस्ट्रेलिया के राजदूत बैरी ओ’ फैरेल ने दी है. ऑस्ट्रेलिया ने वैक्सीन को ऐसे वक्त पर मान्यता दी है, जब विश्व स्वास्थ्य संगठन से इसे अब तक मंजूरी नहीं मिली है.

ऑस्ट्रेलियाई सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने सोमवार को बताया कि आज थैरेप्यूटिक गुड्स एडमिनिस्ट्रेशन ने कोवैक्सीन को ‘मान्यता’ देने का फैसला किया है. विभाग के इस नए फैसले के बाद कौवेक्सीन प्राप्त भारतीय यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय उड़ान भरने में आसानी होगी. 12 साल या इससे ज्यादा उम्र के यात्रियों को देश में आसान एंट्री मिल सकेगी. विभाग ने जानकारी दी है कि टीजीए ने हाल ही में वैक्सीन के संबंध में अतिरिक्त जानकारी हासिल की थी.

 


इससे पहले टीजीए ने 1 अक्टूबर को सलाह दी थी कि अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए कोरोवैक और कोविशील्ड वैक्सीन को भी ‘मान्यता प्राप्त वैक्सीन’ माना जाए. यानी ऐसा माना जाएगा कि जिन लोगों ने ये दोनों वैक्सीन लगवाई हैं, उनका टीकाकरण पूरा हो गया है. वर्तमान में सरकारी एजेंसी की मान्यता प्राप्त वैक्सीन की सूची में फाइजर, एस्ट्राजेनेका, कोविशील्ड, स्पाइकवैक्स, जैनसन और कोरोनावैक का नाम शामिल है.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र