विधानसभा चुनाव से पहले प्रतापगढ़ जिले के रेलवे स्टेशन का बदला नाम

 


लखनऊ,  यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में एक और रेलवे स्टेशन का नाम बदल दिया गया है. असल में प्रतापगढ़ जिले के दांदूपुर रेलवे स्टेशन का भी नाम बदलकर बाराही देवी धाम कर दिया गया है. हालांकि इससे पहले राज्य सरकार की सिफारिश पर केन्द्र सरकार फैजाबाद, इलाहाबाद और मुगलसराय स्टेशनों के नाम भी बदल चुकी है. वहीं झांसी रेलवे स्टेशन का भी नाम बदलने की प्रक्रिया जा रही है.

जानकारी के मुताबिक दांदुपुर रेलवे स्टेशन उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के लखनऊ से वाराणसी रेलखंड पर प्रतापगढ़ से बादशाहपुर के बीच में है. इस बारे में वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक जगदीश शुक्ला के मुताबिक दांदूपुर रेलवे स्टेशन का नाम बदल दिया गया है और अब इसी नाम से टिकट बुक कराए जाएंगे.

असल में राज्य की योगी सरकार कई रेलवे स्टेशन के नाम बदलने के लिए केन्द्र सरकार से सिफारिश कर चुकी है. वहीं नाम बदलने का काम केंद्रीय गृह मंत्रालय करता है और इसके लिए राज्य सरकार को सिफारिश केन्द्र सरकार को भेजनी होती है. इसके लिए खुफिया ब्यूरो, डाक विभाग, भारतीय भौगोलिक सर्वेक्षण विभाग, रेल मंत्रालय अपनी एनओसी देती है और उसके बाद रेलवे स्टेशन का नाम बदला जाता है. वहीं गृह मंत्रालय नाम परिवर्तन के लिए मौजूदा दिशा-निर्देशों के अनुसार संबंधित एजेंसियों से सलाह लेता है और सभी विभागों और एजेंसियों से एनओसी मिलने के बाद नाम बदलने को मंजूरी दी जाती है. वहीं अगर किसी राज्य का नाम बदलने के लिए संविधान में उसके संशोधन के लिए प्रस्ताव रखना होता है और वहां से मंजूरी मिलने के बाद नाम बदला जाता है.दरअसल राज्य की सत्ता में बीजेपी के आने के बाद राज्य में कई रेलवे स्टेशन के नाम बदल दिए गए हैं. इसमें मुगलसराय रेलवे स्टेशन का भी नाम शामिल है. जिसे भारतीय जनसंघ विचारक दीनदयाल उपाध्याय के बाद पर रखा गया है. वहीं मंडुआडीह स्टेशन का नाम बदलकर बनारस जंक्शन किया गया. जबकि इलाहाबाद जंक्शन का नाम बदलकर प्रयागराज जंक्शन, फैजाबाद जंक्शन का नाम बदलकर अयोध्या कैंट किया जा चुका है. इसके अलावा झांसी रेलवे स्टेशन वीरांगना लक्ष्मीबाई रेलवे स्टेशन करने का प्रस्ताव केन्द्र सरकार को भेजा गया है और इस पर जल्दी ही फैसला हो सकता है.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र