मेरे मंत्रियों को नहीं आती हिंदी’, मिजोरम के सीएम ने अमित शाह से की मुख्य सचिव बदलने की अपील

 

अइजोल : मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरामथांगा ने गृह मंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखकर मुख्य सचिव बदलने की मांग की है. इसमें कहा गया है कि राज्य के मंत्रियों को हिंदी नहीं आती, कई को तो अंग्रेजी भी नहीं आती है और ऐसे में केंद्र अपने आदेश में बदलाव करते हुए ऐसे मुख्य सचिव को बदल दे जिनके पास मिजो भाषा में काम करने का अनुभव नहीं है. इसके अलावा केंद्र और राज्य की तरफ से अलग-अलग आदेश जारी होने के चलते मुख्य सचिवों की संख्या दो हो गई है. जिससे राज्य में मुख्य सचिव के पद को लेकर परेशानी खड़ी हो गई है.


जोरमथंगा ने कहा है कि यहां मिजो भाषा नहीं जानने वाला अधिकारी असरदार नहीं होगा. उन्होंने पत्र लिखा, ‘मेरा कोई कैबिनेट मंत्री हिंदी नहीं समझता, ज्यादातर मिजो लोग भी हिंदी नहीं जानते और कुछ लोगों को अंग्रेजी के साथ भी समस्या है. ऐसी पृष्ठभूमि के साथ बगैर मिजो भाषा की जानकारी वाला मुख्य सचिव कभी भी प्रभावी और कुशल मुख्य सचिव नहीं होगा.’उन्होंने लिखा, ‘इस तथ्य के चलते जब से मिजोरम राज्य बना है. भारत सरकार ने कभी भी ऐसा मुख्य सचिव नियुक्त नहीं किया, जिसे मिजो भाषा नहीं आती’ उन्होंने लिखा कि चाहे केंद्र में यूपीए सरकार हो या एनडीए सरकार मिजोरम राज्य के लिए हमेशा यही व्यवस्था रही है. उन्होंने पत्र के जरिए अमित शाह को यह भी याद दिलाया कि वे शुरू से ही एनडीए के ‘भरोसेमंद साथी’ रहे हैं. साथ ही उन्होंने मामले पर विचार की उम्मीद जताई.केंद्र सरकार ने 28 अक्टूबर को एजीएमयूटी कैडर की 1988 बैच की आईएएस अधिकारी को 1 नवंबर से मुख्य सचिव के तौर पर नियुक्त किया था. इसी दिन राज्य सरकार तरफ से जारी आदेश में जेसी रामथंगा को मुख्य सचिव के तौर पर कार्यभार संभालने के लिए कहा गया था. सीएम जोरमथंगा भी अतिरिक्त सचिव रामथंगा को नया मुख्य सचिव बनाना चाहते हैं. 29 अक्टूबर को उन्होंने इस संबंध में गृहमंत्रालय को पत्र लिखा था.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र
राम नाम सत्य है - प्रेम श्रीवास्तव
चित्र