राकेश टिकैत फिर सुर्खियों में, 21वीं सेंचुरी आइकॉन अवार्ड के फाइनलिस्ट में हुआ चयन

 


लखनऊ, एक बार फिर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत सुर्खियों में आ गए हैं. दिल्ली से सटे गाजीपुर पर जारी किसान आंदोलन की अगुवाई करने वाले राकेश टिकैत इस बार 21वीं सेंचुरी आइकॉन अवार्ड को लेकर चर्चा में हैं. मिली जानकारी के अनुसार, राकेश टिकैत 21वीं सेंचुरी आइकॉन अवार्ड के फाइनलिस्ट चुने गए हैं.

दरअसल, इतना लंबा किसान आंदोलन चलाने और आंदोलन को जीवंत रखने की वजह से राकेश टिकैत का चयन किया गया है. ब्रिटेन की राजधानी लंदन में आगामी 10 दिसंबर को विजेताओं की घोषणा की जाएगी.

टिकैत ने हार नहीं मानी
गौरतलब है कि लोकसभा में कृषि कानून पास होने से लेकर कृषि कानून निरसन विधेयक पारित होने तक किसान नेता राकेश टिकैत ने कई मुश्किलों का सामना किया. कई दफा लगा की आंदोलन खत्म हो जाएगा, लेकिन टिकैत ने हार नहीं मानी, और किसान आंदोलन में जान फूंकते रहे, जिसका नतीजा ये हुआ कि सरकार को किसानों की मांग माननी पड़ी, और आखिर में कृषि कानून वापस ले लिया.किसान आंदोलन के दौरान देश ने अलग-अलग तरह की घटनाओं का भी सामना किया. इन सब के बीच राकेश टिकैत ने आंदोलन को मरने नहीं दिया. एक समय ऐसा भी आया था, जब धरनास्थल का बिजली-पानी काटा दिया गया. तब भी अनशन पर बैठे राकेश टिकैत ने हिम्मत नहीं हारी उन्होंने कहा अब पानी तभी पीऊंगा जब गांव से पानी आएगा

आंसुओं की वजह से अचानक राकेश टिकैत आ गए लाइमलाइट में
दरअसल, किसान आंदोलन पर सबसे बड़ा संकट गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान आया. हिंसा के बाद सिंघु, टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पुलिस छावनी में तब्दील कर दिए गये. किसान नेताओं के खिलाफ केस दर्ज. हिंसा में शामिल लोगों की गिरफ्तारी की गई. कई बड़े-बड़े नेताओं पर गिरफ्तारी की तलवार लटक गई. लगने लगा की अब आंदोलन खत्म हो जाएगा.

तभी अचानक राकेश टिकैत का रोते हुए एक विडियो सामने आया, जो देखते ही देखते आग की तरह पूरे देश में फैल गया, और इस तरह एक बार राकेश टिकैत के आंसुओं ने मरते आंदोलन को जिंदा कर दिया. टिकैत के समर्थन में एक बार फिर देश के अलग अलग हिस्सों से किसान पहुंच गए. इसी का नतीजा है कि संयुक्त किसान मोर्चा के अहम नेताओं में शुमार भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत 21वीं सेंचुरी आइकॉन अवार्ड के फाइनलिस्ट बन गए हैं.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र