टोपी के रंगों पर वार-पलटवार, सपा को मिला संजय सिंह का साथ

 


लखनऊ, उत्तर प्रदेश की राजनीति में अब टोपी के रंगों को लेकर नेताओं की बयानबाजी का शुरू हो गई है. दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को गोरखपुर में समाजवादी पार्टी की लाल टोपी को लेकर कहा था, ‘लाल रंग यूपी के लिए खतरे की घंटी है यानी यूपी के लिए रेड अलर्ट है.’ इसके बाद सपा की ओर से पलटवार जारी ही था कि बुधवार को आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने भी भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.आप नेता संजय सिंह ने समाजवादी पार्टी का समर्थन करते हुए कहा, ‘मोदी जी काली टोपी वालों का दिल और दिमाग दोनों काला होता है.’ उन्होंने ट्वीट में पीएम नरेंद्र मोदी की काली टोपी पहने एक यह तस्वीर भी शेयर की. ऐसे में यह कहना लाजिमि है कि प्रदेश की राजनीति में टोपी के रंगों को लेकर महाभारत छिड़ गई है. साथ ही, उन्होंने मीडिया को दिए बयान में यह भी कहा, काली टोपी वाले अपने काले दिमाग से देश के लिए काला कानून लाते हैं. देश को अब इन काली टोपी वालों से सावधान हो जाना चाहिए.गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोरखपुर की रैली में सपा पर तंज कसते हुए कहा था, आज पूरी यूपी भली-भांति जानता है कि लाल टोपीवालों को लाल बत्ती से मतलब रहा है. आपकी दु:ख-तकलीफों से नहीं. लाल टोपीवालों को सत्ता चाहिए. घोटालों के लिए. अपनी तिजोरी भरने के लिए. अवैध कब्जों के लिए. माफिया को खुली छूट देने के लिए.इसके तुरंत बाद बिना किसी देरी के सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने भी ट्वीट कर युद्ध छेड़ दिया. उन्होंने लिखा, ‘बीजेपी के लिए ‘रेड अलर्ट’ है महंगाई का, बेरोजगारी-बेकारी का, किसान-मजदूर की बदहाली का, हाथरस, लखीमपुर, महिला व युवा उत्पीड़न का, बर्बाद शिक्षा व्यवस्था, व्यापार व स्वास्थ्य सेवाओं का और ‘लाल टोपी’ का. क्योंकि वही इस बार बीजेपी को सत्ता से बाहर करेगी. लाल का इंकलाब होगा, बाइस में बदलाव होगा.’


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र