महिलाओं के हित में एक वादा किया पूरा

 


लखनऊ : देश की राजनीति में दूरगामी परिवर्तन लाने के लिए किया गया एक वादा पूरा करने की दिशा में काँग्रेस पार्टी ने पहला कदम उठाया है। पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कुछ दिन पहले यह घोषणा की थी कि उनकी पार्टी राजनीति में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनाव मे 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को देगी। इस वादे को पूरा करते हुए, गुरुवार को पार्टी की ओर से 125 प्रत्याशियों की जो सूची जारी की गई है, उसमे 40 प्रतिशत, यानी 50, महिलाएं हैं।

यह निर्णय अन्य राजनीतिक दलों के लिए एक बड़ी चुनौती है, जो महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए बड़ी-बड़ी बातें तो करते हैं लेकिन धरातल पर उनके प्रयास काफी नहीं होते। प्रियंका ने सूची के विषय में कहा है कि “हमारे उम्मीदवारों की सूची नया संदेश है। हमें आशा है कि इनके जरिए हम एक नई तरीके की राजनीति करेंगे।”

यहाँ ध्यान देने योग्य है कि जिन महिलाओं को टिकट दिए गए हैं, उनमें कुछ पत्रकार हैं, कुछ अभिनेत्री हैं व कुछ समाजसेवी महिलायें हैं। महिलाओं की सूची में वे महिलाएं भी शामिल हैं जिन्होंने संघर्ष किया है और उन पर अत्याचार भी हुआ है। इसमे एक बड़ा उदाहरण हैं बहुचर्चित उन्नाव रेप पीड़िता की मां, जो उन्नाव से कांग्रेस प्रत्याशी होंगी। इस प्रकार पार्टी ने यह संदेश देने की कोशिश की है कि वह महिलाओं के उत्पीड़न के मुद्दे पर हर स्तर पर लड़ाई लड़ेगी।

कुछ समय पहले काँग्रेस ने जनता के मुद्दों को उठाने के साथ ही बेटियों के स्वाभिमान व सम्मान को लेकर “लड़की हूँ लड़ सकती हूँ” का नारा और 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को देने का ऐलान किया था, जो अपने में एक स्पष्ट संदेश था कि पार्टी अब राजनीति को एक नई दिशा देने के लिए कृतसंकल्प है।

महिलाओं की राजनीति में हिस्सेदारी को गंभीरता से लेने के लिए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के स्तर पर जो विचार हैं, वह आर्थिक व सामाजिक स्थिति को बदलने के साथ, परिवारों की परेशानियों का भी संज्ञान लेते हैं। पार्टी द्वारा की गई प्रतिज्ञा यात्रा मे किये गए मुख्य संकल्प इसी सोच से जुड़े हैं।

उदहारण के तौर पर, परिवारों को सालाना तीन रसोई गैस के सिलिन्डर मुफ़्त देना, सभी उपभोक्ताओं का बिजली बिल आधा माफ करना, कोरोना काल के दौरान का बिजली बिल के बकाया को पूरा माफ करना, कोरोना काल की आर्थिक मार को काम करने हेतु कोरोना पीड़ित परिवारों को 25,000 रुपये की आर्थिक सहायता देना, और किसानों का पूरा कर्ज माफ करना, जैसे वादे सीधे तौर पर आम जन की रोजमर्रा की ज़िंदगी को आसान बनाने की दिशा में केंद्रित हैं। उत्तर प्रदेश में अधिकतर राजनीतिक दलों ने इस विषय पर कोई राहत देने वाले कदम न उठाए हैं और न ही अपने चुनावी घोषणा पत्र में ऐसा कोई वादा किया है। इस परिदृश्य में काँग्रेस पार्टी द्वारा महंगाई की मार से बचने के लिए लोगों को अनेक प्रकार से राहत देने का वादा किया गया है।

प्रतिज्ञा यात्रा में यह भी घोषणा की गई थी कि राजनीति में महिलाओं की भागीदारी को सशक्त बनाया जाएगा। पार्टी ने “हम वचन निभाएंगें” शीर्षक से जो अभियान चलाया उसके अंतर्गत पहली प्रतिज्ञा यही थी कि विधान सभा चुनाव में 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को दिया जाएगा। स्पष्ट है कि पार्टी, चुनाव से पहले ही अपने द्वारा किये गए चुनावी वादों को पूरा करने के लिए दृढ़ है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र
राम नाम सत्य है - प्रेम श्रीवास्तव
चित्र