गोरखपुर से सीएम योगी ने किया नामांकन

लखनऊ: विधानसभा चुनाव के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने आज नामांकन किया। इस दौरान गृहमंत्री अमित शाह भी उनके साथ मौजूद रहें। नामांकन के पहले गृहमंत्री अमित शाह और सीएम योगी ने एक जनसभा को भी संबोधित किया। इससे पहले सीएम ने सुबह रूद्राभिषेक और हवन पूजन भी किया। आपको बता दें कि यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को गोरखपुर से अपना नामांकन दाखिल करने से एक जनसभा को भी संबोधित किया। इस जनसभा में गृहमंत्री अमित शाह भी उनके साथ मौजूद रहें। अमित शाह ने मंच से इस दौरान विपक्ष पर जोरदार हमला बोला। वहीं सीएम योगी अपने कार्यकाल में हुए कार्यों की उपलब्धि गिनाते नजर आए। अमित शाह ने भी मंच से योगी आदित्यनाथ की खूब पीठ थपथपाई।


नामांकन से पहले की पूजा अर्चना

सुबह ही सीएम ने मंदिर की पहली मंजिल पर स्थित शक्ति मंदिर में पूजा-अर्चना कर भगवान शंकर का रुद्राभिषेक और हवन किया। इसके बाद गुरु गोरखनाथ की पूजा कर ब्रह्मलीन महंत दिग्विजनाथ और ब्रह्मलीन महंत अवैद्यनाथ की मूर्तियों पर आशीर्वाद लिया। सीएम योगी के नामांकन में केंद्रीय मंत्री अमित शाह मौजूद रहे। प्राप्त जानकारी के अनुसार नामांकन के बाद सीएम गोरखनाथ मंदिर पहुंचकर दर्शन करेंगे।

पूर्वांचल को साधने का प्रयास

सीएम योगी को इस सीट से चुनाव लड़वाकर बीजेपी पूर्वांचल को साधने की तैयारी में जुटी हुई है। प्रयास है कि पूर्वांचल जीत को अजेय रखा जाए। इसी के साथ सीएम योगी आदित्यनाथ के इस चुनाव को भी ऐतिहासिक बनाया जाए।

अमित शाह की मौजूदगी हुई ऐतिहासिक

सीएम योगी पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं ऐसे में यह चुनाव अपने आप में ऐतिहासिक है। लेकिन इसी के साथ एक और चीज ऐसी है जो इतिहास में दर्ज हो चुकी है। देश के गृहमंत्री अमित शाह भी इस नामांकन का हिस्सा रहें। यह पहली बार हो रहा है जब कोई गृहमंत्री नामांकन के दौरान वहां मौजूद है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र