आत्मा व परमात्मा तो एक है - बलदेव राज बत्रा

 


                     बलदेव राज बत्रा

आत्मा व परमात्मा तो एक है!
यह अपार दया करुणा प्रेम ममता और उसका दान है।
 परमात्मा ने अनेक अंगो का योग करके दिया है।
 परमात्मा ने दो आंखें दी लेकिन नजर तो एक है।
दो कान दिए किंतु सुनाई तो एक है।
 दो पांव दिए मंजिल तो एक है।
दो हाथ दिए कर्म तो एक है।
दो मस्तिष्क दिए सोच विचार तो एक है।
दो नासिका का स्वास तो एक है।
दो ह्रदय में धड़कन तो एक है।
दो होठों की मुस्कान तो एक है।
दो शब्दों का राम परमात्मा तो एक है।
जगत माता को तो देखा नहीं एक है।
जन्म देती मां व पिता दो है आशीर्वाद तो एक है।
दुख सुख लाभ हानि यश अपयश कर्मफल पति-पत्नी लड़का लड़की बहन भाई गुरु शिष्य यह दो का अंक  परमात्मा की देन है।
 जीवन मृत्यु शांति अशांति आत्मा तो एक है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र
अहमदाबाद: 17 किलोमीटर लंबी रथ यात्रा, एक लाख साड़ियां और...अमित शाह