सुप्रसिद्ध कवि स्वर्गीय श्री कृष्ण मित्र जी की श्रद्धांजलि सभा का आयोजन हुआ

 


अखिल भारतीय साहित्य परिषद, महानगर इकाई,  गाज़ियाबाद ने दिनाँक 28/11/2022 को वसुंधरा स्थित स्प्रिंग डेल्स स्कूल में सुप्रसिद्ध कवि स्वर्गीय श्री कृष्ण मित्र जी की श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया I 

 


अखिल भारतीय साहित्य परिषद मेरठ प्रान्त के अध्यक्ष श्री देवेंद्र देव मिर्जापुरी ने अध्यक्षता की। महानगर इकाई की अध्यक्ष डॉ. रमा सिंह ने श्री कृष्ण मित्र जी के पूरे साहित्यिक जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि किस तरह से मित्र जी ने अपनी लेखनी से राष्ट्रीय चेतना और राष्ट्र निर्माण की बातों पर बल दिया I 

 





इस मौके पर श्री कृष्ण मित्र जी की पौत्री सुश्री विभूति लव की विशेष उपस्थिति रही। उन्होंने मित्र जी को याद करते हुए कहा कि मित्र जी अपने निजि जीवन मे बहुत ही खुशमिजाज रहे I उनका स्वभाव बेहद सरल था और वो बड़ी ही सरलता से सामने वाले को गंभीर से गंभीर बात समझा देते थे I मेरठ प्रान्त के महासचिव डॉ. चेतन आनंद ने अपने संस्मरणों का साझा करते हुए बताया कि मित्र जी ने हमेशा ही नए साहित्यकारों का हौसला बढ़ाने का काम किया और स्वयं उनकी भी साहित्यिक यात्रा में मित्र जी का बड़ा योगदान है I कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्री देवेंद्र देव मिर्जापुरी जी ने कहा कि श्री मित्र जी ओज के एक बड़े हस्ताक्षर थे और उनकी रचनाएं आने वाले नए रचनाकारों के लिए हमेशा प्रेरणास्रोत रहेंगी I इस अवसर पर सुश्री सीमा सागर शर्मा, डॉ  उदय रस्तोगी, सुनील जी, प्रदीप जी आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किये। उपस्थित सभी साहित्यकारों ने दो मिनट का मौन रख श्रद्धेय श्री कृष्ण मित्र जी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की I कार्यक्रम का संचालन महानगर इकाई के सचिव श्री अजीत श्रीवास्तव ने किया I

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र
राम नाम सत्य है - प्रेम श्रीवास्तव
चित्र