सम्मेद शिखर को धार्मिक स्थान के रूप में ही बनाए रखने के लिए भारत देश के प्रधानमंत्री और झारखंड के मुख्यमंत्री का धन्यवाद- डा.अतुल जैन

 

डा.अतुल जैन

भारत सरकार के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भारतवर्ष और विश्व के समस्त जैन समाज और जैन धर्म के अनुयायियों के निवेदन को स्वीकार करते हुए सम्मेद शिखर जो कि सभी की आस्था का केंद्र है और जैन समुदाय के लिए बहुत बड़ा ही तीर्थ क्षेत्र है उसकी पवित्रता को बनाए रखने के लिए पर्यटन स्थल में परिवर्तित ना करने का जो निर्णय लिया है उसके लिए जैन समाज के प्रत्येक सदस्य के दिलों में खुशी की लहर है और सभी हृदय से प्रधानमंत्री का धन्यवाद ज्ञापित करते हैं ।

साथ ही झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जिन्होंने आज इस बात की घोषणा की है उनका भी धन्यवाद है । जैसा कि पूर्व में बताया गया था सम्मेद शिखर का जैन धर्म के अनुयायियों में बहुत बड़ा उच्च स्थान है यहां से 20 तीर्थंकरों ने मोक्ष प्राप्त किया था और असंख्य जैन साधु साध्वी तथा जैन धर्म के उपासक यहां पर लगातार दर्शन और धर्म लाभ हेतु आते हैं एवं निवास करते हैं, यदि यह पर्यटक स्थल में परिवर्तित हो जाता तो इसकी पवित्रता खंडित हो जाती ।

हम पुनः समस्त जैन समुदाय की ओर से प्रधानमंत्री का हार्दिक आभार और धन्यवाद ज्ञापित करते हैं ।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र