ज्ञान पीठ पुरस्कार प्रतिमा सम्मान समारोह

 






प्रथा जन सूर्य भगवान अपनी दिशा बदल कर ज्ञान विज्ञान और शान्ति की और अपने रथ को मोड रहे होते है ऐसी पावन बेला में डॉक:राजेंद्र प्रसाद शिक्षा सेना केन्द्र के संचालक परतहम प्रबंधक बीएन तिवारी, जी ने भारत वर्ष के प्रथम राष्ट्रपति डॉक राजेंद्र प्रसाद जी की 138वी जन्म तिथि ,

के उपलम्ब्ध मे गाजियाबाद अनेक पब्लिक स्कूल से हिंदी भाषा के प्रती जागरूप करने के उदेश्य से विभिन स्तर पर परीक्षा को लेकर विद्यार्थियों में मनोबल को बढ़ाने हेतु "ज्ञान पीठ पुरुस्कार" का प्रमाण पत्र एवम शील्ड द्वारा सम्मानित करने का आयोजन संपन हुआ। ये कार्यकर्म प्रात: 11 बजे से  दोपहर 2:50 तक चला। 

इन अवसर पर माता कामक्षा धाम के श्री श्री , राम प्रवेश पूरी जी मुख्य अतिथि के समक्ष अन्य अनेक सम्मानित

अनिल कौशिक,( प्रधान मंत्री कल्याण योजना के अध्यक्ष) , नरेश कपूर , श्री कर्नल तुली, आर के मुनि,अंगेशा नंद महाराज ( बहादुर गड़ हरियाणा), पूर्व पार्षद शालीमार गार्डन भगंती प्रहलाद मिश्रा, नागेंद्र चौहान, राजीव भाटी जी,
तिलक राम पांडेय, जितेंद राय, इंद्रा पब्लिक स्कूल के प्रबन्धक प्रवीन वर्मा,

ज्ञान दीप पब्लिक स्कूल के संचालक/ प्रबंधक बंसल, श्री वेद प्रकाश कौशिक , पुर्वांचल समाज के मुख्य संयोजक राकेश मिश्रा , कार्यकर्म के संचालक विनोद त्रिपाठी जी ने सम्पन किया । इनके संयोगी जितेंद्र राय ने योगदान दिया । श्री बीएन तिवारी जी के कार्य कर्म में सोफिया पब्लिक स्कूल के संचालक सलीम खान , ने भाग लिया ( ये समाजवादी पार्टी के नेता श्री राम दुलार यादव जी  ने भाग लिया)

बी. बी. एम पब्लिक स्कूल के श्री मिथलेश मिश्रा जी
डी.एस.पी (नोएडा ), एस डी एम तिवारी जी के आतिरिक्त अनेक स्कूलों के शिक्षक , जिन्होंने इस पुरस्कार में भाग लेने वाले विजयेताओ के मार्गदर्शन तथा सलाहकार ।
डॉक्टर: के.एल विश्वकर्मा ने भी अपना योगदान दिया।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र