उत्तर प्रदेश सहित पूरा देश महंगाई की मार बुरी तरह से झेल रहा है- बृजलाल खाबरी
 

उत्तर प्रदेश सहित पूरा देश महंगाई की मार बुरी तरह से झेल रहा है, वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी, प्रधानमंत्री मोदी सहित पूरा मंत्रिमंडल लोगों का ध्यान भटकाने में लगा है। लोगों के रसोई में आग लगी हुई है, सरकार आम जनमानस को अन्य मुद्दों पर उलझाकर चुनावी बिसात बिछाने में मशगुल है।
 उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पूर्व सांसद श्री बृजलाल खाबरी जी ने कहा कि सब्जियों के दाम जिस तरह से कई गुना एक सप्ताह के अन्दर बढ़ गये जनमानस की तो कमर ही टूट गई है। जो टमाटर 20-25 रूपये प्रतिकिलो हुआ करता था वह आज 150 रूपये के आसपास भ्रमण कर रहा है। खीरा जहां दुगने दाम पर पहुंच गया है, वहीं बैंगन, हरी मिर्च और धनिया में भी होड़ लगी है। कोई भी ऐसी सब्जी नहीं है जो दो गुने के आसपास न मडंरा रही हो। सब्जियों के साथ-साथ दालें, चीनी, मसालें एवं सरसों के तेल के दामों में भी बेतहाशा उछाल है। जीरा, लहसुन, हल्दी, लालमिर्च सहित लगभग सभी मसालें आम आदमी की पकड़ से बाहर हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार महंगाई के कारणों पर न तो गौर कर रही है और न ही कम करने का कोई ठोस प्रयास कर रही है। बाजार में आ रहे बदलाव पर जहां सरकार को नज़र रखनी चाहिए वहीं केवल झूठ बोलने में व्यस्त है। टमाटर और सेब में होड़ है कि कौन आगे निकल जायेगा, जहां टमाटर सेब के दाम से आगे निकल रहा था वहीं अब सेब पर भी महंगाई दिखने लगी है। मंडियों में आढ़तियों द्वारा ज्यादा दाम देकर सेब खरीदे जा रहे हैं।

खाबरी ने आगे कहा कि भाजपा के मंत्रियों एवं नेताओं द्वारा लगातार झूठ बोला जाता है कि पिछली सरकार की तुलना में महंगाई नहीं बढ़ी है। जबकि वर्ष 2014 तक जहां सरसों का तेल 70 रूपये प्रतिकिलो मिला करता था आज वह लगभग 200 रूपये प्रतिकिलो के आस-पास है, पेट्रोल की कीमत किसी से छिपी नहीं है, घर बनवाने में जो सीमेंट 200 रूपये में आती थी वह आज लगभग 500 रूपये के करीब मिल रही है, रसोई गैस का दाम जग जाहिर है फिर भी सरकार को कुछ दिख ही नहीं रहा है केवल चुनाव दिखता है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने केंद्रीय गृह मंत्री पर तीखा हमला करते हुए कहा कि कल लखनऊ आगमन के दौरान अमित शाह ने उ0प्र0 की कानून व्यवस्था की सराहना की जबकि कोई ऐसा दिन नहीं है जब आपराधिक घटनाएं न घटती हों, प्रदेश की राजधानी में भी खुलेआम हत्या, बलात्कार जैसी जघन्य घटनाएं आम हो गई हैं। प्रदेश सहित पूरा देश महंगाई और बेरोजगारी का दंश झेल रहा है वहीं मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री अन्य विषयों पर बोलकर लोगों को भ्रमित करने में व्यस्त हैं।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
राज्यपाल अनंदीबेन पटेल से से प्रशिक्षु IAS अफ़सरों नज की मुलाक़ात !!
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
गोवंश का संरक्षण एवं संवर्द्धन राज्य सरकार की प्राथमिकता - धर्मपाल सिंह
चित्र