अमित शाह के सर्वे में छत्तीसगढ़ में मिल रही थीं 34 सीटें, अब आंकड़ा 48 तक पहुंचा; भाजपा कार्यकर्ताओं में बढ़ा उत्साह

 


 छत्तीसगढ़ में सरकार बनाने के लिए 46 सीटों पर जीत जरूरी है। ऐसे में अब इस आंकड़े से भाजपा उत्साहित है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने भी अपने आंतरिक सर्वे में 55 सीटों पर जीत की संभावना व्यक्त की है लेकिन 17 सीटों पर कड़ा मुकाबला भी बताया है। बूथ स्तर पर किए गए सर्वे में मिले फीडबैक के आधार पर भाजपा का सरकार बनाने का दावा है।केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा बीते जुलाई माह में कराए गए आंतरिक सर्वे में भाजपा को छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों में से 34 पर जीत मिलती दिख रही थी, जबकि मतदान के बाद यह आंकड़ा 48 तक पहुंच गया है। मतदान बाद पार्टी की समीक्षा बैठकों में यह बात सामने आई है। बूथ स्तर पर किए गए सर्वे में मिले फीडबैक के आधार पर भाजपा का सरकार बनाने का दावा है।

सरकार बनाने के लिए 46 सीटों पर जीत जरूरी

सरकार बनाने के लिए 46 सीटों पर जीत जरूरी है। ऐसे में अब इस आंकड़े से भाजपा उत्साहित है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने भी अपने आंतरिक सर्वे में 55 सीटों पर जीत की संभावना व्यक्त की है, लेकिन 17 सीटों पर कड़ा मुकाबला भी बताया है।

आंकड़े बढ़ने के प्रमुख कारणों में चुनाव के तीन महीने पहले ही 21 सीटों पर प्रत्याशियों का नाम घोषित करना, प्रभावी घोषणा-पत्र और प्रधानमंत्री, केंद्रीय गृह मंत्री समेत सभी विधानसभा सीटों पर 150 से अधिक दूसरे राज्यों के विधायकों की निगरानी को माना जा रहा है।

2018 में भाजपा को 15 सीटें ही मिल पाई थीं

बता दें कि विधानसभा चुनाव 2018 में भाजपा को 15 सीटें ही मिल पाई थीं, जबकि कांग्रेस को 68 सीटों के साथ भारी बहुमत मिला था। बाद में उपचुनाव के बाद यह आंकड़ा 71 पहुंच गया। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष अरुण साव ने कहा कि हमने बूथ स्तर पर समीक्षा की है। अभी आंकड़ों पर नहीं जाते हुए इतना तो दावा है कि भाजपा सरकार बनाने जा रही है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र