गुरु सेवक मात्र हैं भगवान नहीं बलदेव राज बत्रा

 


भारतवर्ष में माता-पिता के बाद गुरु ही प्रथम है जो हमें मानव शिष्टाचार का ज्ञान सीखकर मानवता का पाठ सिखाते हैं भौतिक ज्ञान के बाद हम जज ,वकील, डॉक्टर ,साइंटिस्ट इंजीनियर ,पायलट ,जनरल ,मंत्री व प्रधानमंत्री तक गुरु की शिक्षा के बदौलत ही पहुंच पाते हैं आध्यात्मिक गुरु बनाना,अच्छी बात है किंतु गुरु भगवान मत बने, आध्यात्मिक गुरु एक रास्ता एक  ज्ञानदीप  जलने और बताने वाले गुरु हैं भागवत गीता सद्गुरु भगवान कृष्ण जी को ही मानती है सभी  गुरु जन भौतिक व आध्यात्मिक गुरु मात्र है भगवान की सेवक मात्र हैं भगवान नहीं है

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र
राम नाम सत्य है - प्रेम श्रीवास्तव
चित्र