प्रधानमंत्री ने रोड शो किया, प्रधानमंत्री का अयोध्या में अभूतपूर्व स्वागत किया गया

 











प्रधानमंत्री ने जनपद अयोध्या में 15,700 करोड़ रु0 से अधिक लागत की 45 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया, इस अवसर पर उ0प्र0 की राज्यपाल तथा मुख्यमंत्री सम्मिलित हुए

प्रधानमंत्री ने महर्षि वाल्मीकि अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे तथा पुनर्विकसित अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का लोकार्पण किया, 06 वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन और 02 अमृत भारत ट्रेन को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया

प्रधानमंत्री ने रोड शो किया, प्रधानमंत्री का अयोध्या में अभूतपूर्व स्वागत किया गया

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की 10 करोड़वीं लाभार्थी के घर गये

विकसित भारत के निर्माण के अभियान को अयोध्या से नई गति और नई ऊर्जा मिल रही, आज का भारत पुरातन और नूतन दोनों को आत्मसात करते हुए आगे बढ़ रहा : प्रधानमंत्री

अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर बनने के बाद यहां आने वाले लोगों की संख्या में बहुत ज्यादा वृद्धि होगी, इसे ध्यान में रखते हुए हमारी सरकार अयोध्या में हजारों करोड़ रु0 के विकास कार्य करा रही

अयोध्या धाम में हो रहे निर्माण कार्य यहां आने वाले सभी राम भक्तों के लिए अयोध्या धाम की यात्रा और प्रभु श्रीराम के दर्शन को आसान बनाएंगे

विकास के कार्यों से अयोध्या में रोजगार और स्वरोजगार के नए अवसर भी बढ़ेंगे

महर्षि वाल्मीकि अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डा यहां आने वाले हर यात्री को धन्य करेगा

अयोध्या से देश ने आधुनिक रेलवे के निर्माण की ओर एक बड़ा कदम उठाया, वंदे भारत तथा नमो भारत के बाद देश को अमृत भारत के रूप में नई ट्रेन मिली

वंदे भारत, नमो भारत और अमृत भारत ट्रेन की त्रिशक्ति भारतीय रेलवे का कायाकल्प करने जा रही

पहली अमृत भारत ट्रेन अयोध्या से गुजरती, आज अयोध्या-आनन्द विहार टर्मिनल वंदे भारत ट्रेन की शुरुआत भी की गई

मोदी जो गारण्टी देता, उसे पूरा करने के लिए दिन-रात एक कर देता

आगामी 22 जनवरी को जब अयोध्या में प्रभु श्रीराम विराजमान हों, तब सभी अपने घरों में श्रीराम ज्योति जलाएं और दीपावली मनाएं

22 जनवरी से एक सप्ताह पूर्व से ही पूरे देश में सभी छोटे-बड़े तीर्थ स्थलों पर स्वच्छता का बड़ा अभियान चलाया जाना चाहिए

प्रधानमंत्री जी ने अयोध्या को दुनिया की सुन्दरतम नगरी के रूप में स्थापित करने का संकल्प लिया : मुख्यमंत्री

500 वर्षों की प्रतीक्षा समाप्त होने जा रही, 22 जनवरी, 2024 को प्रधानमंत्री जी के कर-कमलों द्वारा श्रीरामलला स्वयं के भव्य मंदिर में विराजमान होंगे

 

प्रधानमंत्री  के नेतृत्व तथा मार्गदर्शन में भारतीय विरासत से जुड़े हुए अयोध्या जैसे नगर नई पहचान प्राप्त कर रहे हैं। आज प्रधानमंत्री अयोध्या को विकास, अवसंरचना, कनेक्टिविटी जैसी सुविधाओं से सम्पन्न बना रहे हैं। प्रधानमंत्री  ने प्रभु श्रीराम से इस लोक का मिलन कराने वाले त्रिकालदर्शी ऋषि महर्षि वाल्मीकि  के नाम पर अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम रखा है। यह भारत की परम्परा व विरासत पर गौरव की अनुभूति करने वाला क्षण है। रामायण को लौकिक रूप से हम सभी तक पहुंचाने वाले महर्षि वाल्मीकि जी पहले ऋषि हैं।

 मुख्यमंत्री  ने कहा कि 22 जनवरी, 2024 को प्रभु श्रीराम के स्वयं के मंदिर में विराजमान होने के अवसर पर अयोध्या में अतिथि देवो भव का अनुभव देश व दुनिया को कराना है। इसके लिए 22 जनवरी, 2024 को अतिथियों के स्वागत के लिए उत्साह व तत्परता से कार्य करना है।

इस अवसर पर केन्द्रीय रेल मंत्री  अश्विनी वैष्णव ने कहा कि प्रभु श्रीराम जी की कृपा तथा प्रधानमंत्री  के विजन से आज अयोध्या विश्व के केन्द्र में है। अयोध्या में आज विरासत और विकास का अनूठा संगम दिख रहा है। वर्ष 2009 से 2014 के बीच उत्तर प्रदेश के लिए रेल बजट में मात्र 1109 करोड़ रुपये की व्यवस्था थी। आज प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश में रेलवे के विकास के लिए 17 हजार करोड़ रुपये दे रहे हैं। इससे प्रदेश के सभी रेलवे प्रोजेक्ट में गति आयी है।

 केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में भारत आर्थिक रूप से प्रगति कर रहा है। प्रधानमंत्री  का संकल्प है कि भारत आध्यात्मिक रूप से भी उभरे। प्रधानमंत्री  की मंशा थी कि अयोध्या हवाई अड्डे का स्वरूप विश्वस्तरीय हो। इसे ध्यान में रखते हुए, यह हवाई अड्डा भगवान श्रीराम की जीवन शैली तथा भारत की कला एवं संस्कृति से प्रेरित है।

इस अवसर पर केन्द्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री जनरल (डॉ0) वी0के0 सिंह (सेवा निवृत्त), उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री  केशव प्रसाद मौर्य,  ब्रजेश पाठक, कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, लोक निर्माण मंत्री  जितिन प्रसाद, पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री जयवीर सिंह, परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  दयाशंकर सिंह, विधान परिषद सदस्य भूपेन्द्र सिंह चौधरी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, गृह एवं सूचना संजय प्रसाद तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे.ज्ञातव्य है कि प्रधानमंत्री  ने आज जनपद अयोध्या में केन्द्र सरकार की 14 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यान्स किया। इनकी कुल लागत 11284.91 करोड़ रुपये है। इनमें 10769.88 करोड़ रुपये की 12 परियोजनाओं का लोकार्पण तथा 515.03 करोड़ रुपये लागत की 02 परियोजनाओं का शिलान्यास सम्मिलित हैं। राज्य सरकार की 31 कुल परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया गया। इनकी लागत 4426.51 करोड़ रुपये है। इनमें से 1676.68 करोड़ रुपये लागत की 22 परियोजनाओं का लोकार्पण तथा 2749.83 करोड़ रुपये लागत की 09 परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया। इस प्रकार केन्द्र व राज्य की कुल 45 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया गया, जिनकी कुल लागत 15711.42 करोड़ रुपये है। यह परियोजनाएं जल शक्ति, नागरिक उड्डयन, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, रेलवे, धर्मार्थ कार्य, चिकित्सा शिक्षा, लोक निर्माण, नगर विकास, गृह, एन0एच0ए0आई0, नियोजन, आयुष, आवास एवं शहरी नियोजन, रसायन एवं पेट्रो रसायन तथा पर्यटन विभाग से सम्बन्धित हैं।

टिप्पणियाँ